जानिए CM शिवराज के ड्रीम प्रोजेक्ट नर्मदा एक्सप्रेस-वे के बारे में, बजट में जिसे मिला ग्रीन सिग्नल

मध्य प्रदेश के बजट में नर्मदा एक्सप्रेस-वे (narmada expressway) के निर्माण को लेकर भी स्वीकृति मिल गई है. नर्मदा एक्सप्रेस-वे मध्य प्रदेश के अमरकंटक से गुजरात के अंकलेश्वर तक बनेगा. 

जानिए CM शिवराज के ड्रीम प्रोजेक्ट नर्मदा एक्सप्रेस-वे के बारे में, बजट में जिसे मिला ग्रीन सिग्नल
नर्मदा एक्सप्रेस-वे (फाइल फोटो)

भोपालः  वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा ने शिवराज सरकार के चौथे कार्यकाल का पहला बजट 2 मार्च को पेश कर दिया. बजट में नर्मदा एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्य को शुरू करने की घोषणा कर दी गई है. इसे बढ़ाकर गुजरात के अंकलेश्वर तक ले जाने की योजना बनाने की बात कही गई है. जिससे नर्मदा एक्सप्रेस-वे की लंबाई 1265 किलोमीटर हो जाएगी. इस एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ औद्योगिक क्लस्टर बनेगा. इसके अलावा अन्य व्यावसायिक गतिविधियां भी शुरू होंगी. प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद क्षेत्र के विकास को एक नई रफ्तार मिलने की उम्मीद है. 

सीएम शिवराज का ड्रीम प्रोजेक्ट है नर्मदा एक्सप्रेस-वे 
दरअसल, मध्य प्रदेश के अमरकंटक से गुजरात के अंकलेश्वर तक बनने वाला नर्मदा एक्सप्रेस-वे मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान का ड्रीम प्रोजेक्ट है. यह मध्य प्रदेश में अमरकंटक को अलीराजपुर जिले से जोड़ेगा. साल 2018 के विधानसभा चुनाव से पहले सीएम शिवराज सिंह ने नर्मदा परिक्रमा के दौरान इस प्रोजक्ट की घोषणा की थी. सीएम ने कहा था कि मध्य प्रदेश की जीवनदायनी कही जाने वाली नर्मदा नदी के बहाव क्षेत्र में ही इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण होगा. खास बात यह है कि बजट में इस बार एक्सप्रेस-वे निर्माण की शुरूआत करने की घोषणा हो गई है. जिससे इसके काम में तेजी आने की उम्मीदे अब बढ़ गई हैं. 

13 जिलों से गुजरेगा नर्मदा एक्सप्रेस-वे 
नर्मदा एक्सप्रेस-वे मध्य प्रदेश के 13 जिलों से होकर गुजरेगा. इसका विस्तार अनूपपुर जिले के अमरकंटक से होगा, जो नर्मदा नदी का उद्गम स्थल है. यहां से शहडोल, उमरिया, सीधी, सतना, रीवा, जबलपुर, भोपाल, इंदौर, खरगोन, खंडवा, झाबुआ, अलीराजपुर होते हुए बड़वानी जिले तक रहेगा. यहां आगे एक्सप्रेस-वे गुजरात राज्य में प्रवेश कर जाएगा. जिसका 140 किलोमीटर का हिस्सा गुजरात राज्य में होगा. नर्मदा एक्सप्रेस-वे का बजट 13 हजार करोड़ रुपए हैं. केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय की तरफ से अपने हिस्से की एनओसी और स्वीकृति मिल चुकी है. इसका निर्माण उत्तर प्रदेश के यमुना एक्सप्रेस-वे की तर्ज पर होगा. 

ये भी पढ़ेंः बजट में महाकौशल-विंध्य क्षेत्र: नर्मदा एक्सप्रेस-वे को हरी झंडी, जबलपुर में कैंसर अस्पताल

नर्मदा एक्सप्रेस-वे की खासियत 
नर्मदा एक्सप्रेस-वे मध्य प्रदेश के बड़े प्रोजेक्ट में से एक है. जिसकी कई खासियतें हैं. नर्मदा एक्सप्रेस-वे का निर्माण उत्तर प्रदेश के आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे की तर्ज पर किया जाएगा. यह सिक्स लेन होगा. जिसे इस तरह से डिजाइन किया जाएगा जिस पर बड़े वायुसेना के विमान भी लैंड कर सकेंगे. इस हाइवे का सबसे ज्यादा लाभ प्रदेश के कारोबार को होगा. क्योंकि एक्सप्रेस-वे को प्रदेश से होकर निकलने वाले दिल्ली-बड़ोदरा एक्सप्रेस-वे के कॉरिडोर से जोड़ा जाएगा. जिससे व्यापारिक क्षेत्र में तेजी आएगी. 

सीएम शिवराज के सामने होना है प्रेजेंटेशन
नर्मदा एक्सप्रेस-वे का प्रेजेंटेशन प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव के सामने किया जा चुका है. जिसके बाद मंत्री ने इसके लिए अपनी स्वीकृति भी दे दी है. हालांकि अभी नर्मदा एक्सप्रेस-वे का प्रेजेंटेशन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सामने भी किया जाना है. सीएम की स्वीकृति मिलते ही मध्य प्रदेश सड़क विकास निगम के संचालक मंडल द्वारा इसका डीपीआर तैयार होगा. बताया जा रहा है कि काम शुरू होने के बाद नर्मदा एक्सप्रेस-वे करीब 6 साल बाद बनकर तैयार होगा. बजट में स्वीकृति मिलने के बाद माना जा रहा है कि अब नर्मदा एक्सप्रेस-वे के काम में तेजी आएगी.

ये भी पढ़ेंः शिवराज सरकार के बजट में बड़ा ऐलान, जारी रहेगी इन लोगों की पेंशन, पुजारियों को भी मिली सौगात

ये भी पढ़ेंः बजट में इस जिले को मिली मेडिकल कॉलेज की सौगात, बीजेपी-कांग्रेस में श्रेय लेने की मची होड़

 

WATCH LIVE TV