कोरोना ने की ऐसी तबाही, एक माह में उजड़ गया इस मशहूर प्रोफेसर का पूरा परिवार, एक लापरवाही पड़ी भारी

परिवार में माता-पिता, बेटा और बहू थे लेकिन अब घर में बस बहू बची है और घर के बाकी सदस्यों की कोरोना के चलते मौत हो गई है. 

कोरोना ने की ऐसी तबाही, एक माह में उजड़ गया इस मशहूर प्रोफेसर का पूरा परिवार, एक लापरवाही पड़ी भारी
फाइल फोटो.

इंदौरः कोरोना महामारी की दूसरी लहर में कई परिवार उजड़ गए हैं. ऐसा ही एक परिवार इंदौर का भी है, जो एक माह में ही तबाह हो गया. दरअसल इस परिवार में माता-पिता, बेटा और बहू थे लेकिन अब घर में बस बहू बची है और घर के बाकी सदस्यों की कोरोना के चलते मौत हो गई है. 

एक लापरवाही पड़ी परिवार पर भारी
बता दें कि इंदौर की इंद्रलोक कॉलोनी में डॉ. प्रियंका जैन का परिवार रहता था. वह शहर की जानी-मानी शिक्षाविद थीं. उनके परिवार में पति उमेश जैन और बेटा अमन थे. अब तीनों ही कोरोना से जिंदगी की जंग हारकर इस दुनिया से विदा हो चुके हैं. दरअसल परिवार के लोग बीते माह एक उठावने में शामिल हुए थे. बस इस लापरवाही के चलते कुछ दिन बाद डॉ. प्रियंका जैन की तबीयत बिगड़ गई. 

कुछ दिन बाद घर के मुखिया उमेश जैन भी कोरोना की चपेट में आ गए. फिर बेटा अमन भी संक्रमित हो गया. तीनों का अस्पताल में इलाज चल रहा था लेकिन दो सप्ताह पहले उमेश जैन की कोरोना संक्रमण के चलते मौत हो गई. बीते सप्ताह बेटे अमन ने भी दम तोड़ दिया. अब डॉ. प्रियंका जैन की भी इलाज के दौरान मौत हो गई है. 

11 माह पहले ही हुई थी बेटे की शादी
भास्कर की एक रिपोर्ट के अनुसार, डॉ. जैन के बेटे अमन की 11 माह पहले ही शादी हुई थी. अमन एक निजी इंजीनियरिंग कॉलेज में असिस्टेंट रजिस्ट्रार के पद पर तैनात था. नौकरी के दौरान ही अमन की मुलाकात उसी संस्थान में काम करने वाली अवनी से हुई. दोनों ने शादी कर ली. लेकिन अब परिवार में बस अवनी ही बची है और हंसता खेलता परिवाह एक माह में ही उजड़ गया. 

बता दें डॉ. प्रियंका जैन जिले के कई निजी कॉलेजों में विजिटिंग फैकल्टी के तौर पर सेवाएं दे चुकी थीं. उन्होंने डबल पीएचडी की थी और वह शहर के चुनिंदा शिक्षाविदों में शुमार थीं.