रोजगार देने के नाम पर कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव ने की 5 लाख से ज़्यादा की ठगी
topStories1rajasthan934702

रोजगार देने के नाम पर कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव ने की 5 लाख से ज़्यादा की ठगी

युवक कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव मोहम्मद शाहिद ने 5 लाख से ज्यादा रुपये ठग लिए.

 

रोजगार देने के नाम पर कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव ने की 5 लाख से ज़्यादा की ठगी

दुर्ग: राजनेता बनना भी आज के युवाओं की करियर लिस्ट में शामिल है. किसी बड़े नेता के साथ अपनी फोटों दिखना भी एक शौक है. शहर में बड़े बड़े होर्डिंग में दिग्गज नेताओं के साथ महंगे कैमरे से खींची गई फोटो में दिखने वाले चेले राजनीति में नेता बनने का सफल प्रयोग करते है. इन्ही बड़े नेताओं के साथ होर्डिंग को देखकर नौजवान भी लालायित हो जाते है और अगर नेता राष्ट्रीय स्तर पर किसी पद पर हो तो सोने पर सुहागा है लोग इन पर जल्दी भरोसा कर लेते हैं. लेकिन  अगर ये ही आम जनता के साथ धोखा करने लगे तो क्या होगा .ऐसा ही मामला सामने आया है जहां लाखों की ठगी की गई है.

नौकरी लगाने के नाम लाखों की ठगी
बेरोजगारी का दंश झेल रहे युवाओं को लगता है कि ये होर्डिंग वाला नेता ही उनका खेवनहार बनेगा. बस फिर क्या इन्ही नेताओं द्वारा नॉकरी लगाने के नाम लाखों रुपए ठग लिए जाते है.
मामला दुर्ग का है जहां युवल कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव मोहम्मद शाहिदने 5 लाख से ज्यादा रुपये ठग लिए है.

झांसे में आते युवा
दरअसल स्थानीय नेता की उनके बड़े नेताओं के साथ फोटो देख बेचारा बेरोजगार भी झांसे में आ जाता है. ताजा मामला है भिलाई के खुर्सीपार में रहने वाले बेरोजगार युवक का है. जिसने युवा कोंग्रेस के मोहम्मद शाहिद और उसके साथी जुल्फिकार को 5 लाख 35 हज़ार रुपए नगद नौकरी लगाने के नाम पर दिए थे.

नौकरी लगाने के लिए मांगे रुपए
बकायदा एक एफआईआर(FIR) दर्ज करने के लिए खुर्सीपर थाना में आवेदन दिया गया है. आवेदन में प्रार्थी ने कहा है कि सन 2016 में सीजी व्यापम द्वारा छात्रावास आरक्षक( हॉस्टल वार्डन) नौकरी लगाने के नाम पर पैसा मांगा गया था लेकिन अब तक ना तो नौकरी लगी ना पैसा मिला.

पीड़ित का आरोप
वहीं पीड़ित का कहना है कि जब पैसा मांगने की बारी आती है तब मोहम्मद शाहिद कुछ ना कुछ कारण बताकर घुमा रहा है. पैसा नहीं मिलने पर घर वाले मानसिक रूप से परेशान हैं. मोहम्मद शाहिद से पिछले 4 सालों से पैसा मांग रहा हूं लेकिन पैसा नहीं दे रहा है इससे मानसिक और शारीरिक दोनों तरीके से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, पैसा नहीं मिला तो आत्महत्या करने की नौबत आ चुकी है.

क्या कोई राजनीतिक षडयंत्र
पीड़ित अश्विन कुमार कौशल,भूपेन्द्र कुमार देवांगन ने खुर्सीपर थाना में मामला दर्ज कराया है. बहरहाल पैसे लिए गए कि नहीं या उनके खिलाफ कोई राजनीतिक षडयंत्र हो रहा है ये तो मोहम्मद शाहिद ही बता पाएंगे. लेकिन एक सच्चाई ये भी है कि कोंग्रेस हो या बीजेपी दोनों ही पार्टियों में बड़े बड़े नेताओं से चिपककर फोटो और होर्डिंग लगवाने वाले नेताओं पर बेरोजगार आसानी से भरोसा कर लेते है और ठगी के शिकार हो जाते है.

पुलिस जांच में जुटी
एएसपी संजय ध्रुव ने फिलहाल इस पूरे मामले पर कहा कि पुलिस जांच कर रही है जल्द ही खुलासा हो जाएगा.

ये भी पढ़ें: BJP नेता की दबंगई, PWD के सब इंजीनियर के साथ की मारपीट, पैर भी तोड़ा

WATCH LIVE TV

Trending news