50 दिन के बाद अनलॉक हुआ रतलाम लेकिन दुकान खोलते ही गायब हुई दुकानदारों की हंसी! जानिए क्यों

 दो माह से बंद छोटे गुमटियों व्यवसायी जितनी खुशी दुकान खोलने को लेकर थी वह दुकान खोलते ही बिजली बिल देख परेशानी में बदल गयी.

50 दिन के बाद अनलॉक हुआ रतलाम लेकिन दुकान खोलते ही गायब हुई दुकानदारों की हंसी! जानिए क्यों
सांकेतिक तस्वीर

रतलाम: रतलाम में पचास दिनों के बाद अनलॉक में अब सभी बाजार खुल चुके हैं. बड़े-छोटे सभी व्यवसायी अपने अपने व्यवसाय को शुरू करने से पहले सफाई कर दुकान को दुरस्त कर रहे हैं. लेकिन छोटे दुकानदारों की मुसीबत उस वक्त बढ़ गयी, जब दुकान खोलते ही उसमें 2 माह का बिजली बिल सामने रखा मिला. दो माह से बंद छोटे गुमटियों व्यवसायी जितनी खुशी दुकान खोलने को लेकर थी वह दुकान खोलते ही बिजली बिल देख परेशानी में बदल गयी.

कोरोना की मार झेल रही भेड़ाघाट की विश्व प्रसिद्ध मूर्तिकला, लोगों के सामने पैदा हुआ खाने का संकट

1000 महीना प्रतिमाह बिल
गुमटी लगाकर छोटा मोटा व्यवसाय करने वाले इन बन्द गुमटियों का 2 महीने के हिसाब से 1000 रुपये प्रतिमाह का बिल आ गया है. कुछ गुमटी संचालकों ने लॉकडाऊन के कारण अपने कनेक्शन को ही मीटर से अलग कर दिया था लेकिन बावजूद इसके 1000 रुपये प्रतिमाह 2 माह से आ रहा है. 

2 माह से दुकान बंद बिल कहां से भरें
ऐसे में इन गुमटी में व्यवसाय करने वालों की मुसीबत ओर बढ़ गयी है. दुकानदारों का कहना है कि पहले ही 2 माह से व्यापार व्यवसाय पूरी तरह बंद था और अब दुकान खुलते ये बिल के पैसे कहां से जमा करेंगे? 

MP Board: क्या 25 जून को आएगा 10वीं का रिजल्ट? जानें डिटेल्स

अगले महीने बिल कम हो जाएगा
इधर एमपीईबी अधिकारी कार्यपालन यंत्री वी पी सिंह का कहना हैं कि छोटे गुमटी धारकों का 1 किलो वाट लोड का मीटर होता है. जिसका बिजली खपत न होने पर न्यूनतम बिल 200 से 300 तक आ सकता है, लेकिन इससे ज्यादा नहीं. वहीं जिनका भी अनलॉक के दौरान बिजली बिल आया है. उसे अगले माह बिलों को फौरन स्वतः ही अधिभार बिल राशि से कम हो जाएगा.

WATCH LIVE TV