जबलपुर में तोप के गोलों की चोरी में गहरी साजिश की आशंका, रक्षा मंत्रालय ने दिए जांच के आदेश

चोरों ने जिस तरह से बारूद को बम से निकालकर उनसे टंगस्टन पेनिट्रेटर चोरी किया है, उससे अनुमान लगाया जा रहा है कि यह चोरी किसी जानकार व्यक्ति ने की है.

जबलपुर में तोप के गोलों की चोरी में गहरी साजिश की आशंका, रक्षा मंत्रालय ने दिए जांच के आदेश
धनुष तोप. (फाइल फोटो)

जबलपुर/करण मिश्राः मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले के खमरिया में भारतीय सेना का लॉन्ग प्रूफ रेंज, हथियार टेस्टिंग सेंटर है. इस सेंटर से हाल ही में टैंक भेदी बम के तीन खाली खोखे चोरी हो गए थे. इतने हाई सिक्योरिटी इलाके से हुई इस चोरी से हंगामा खड़ा हो गया है. अब इस मामले में नया और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. दरअसल चोरों ने बम के उपकरण चोरी किए हैं. चोरों ने बमों से टंगस्टन पेनिट्रेटर नामक उपकरण निकाला है. 

गहरी साजिश की आशंका
गौरतलब है कि चोरों ने जिस तरह से बारूद को बम से निकालकर उनसे टंगस्टन पेनिट्रेटर चोरी किया है, उससे अनुमान लगाया जा रहा है कि यह चोरी किसी जानकार व्यक्ति ने की है और पूरी साजिश के साथ ये काम किया गया है. आशंका है कि यह किसी गहरी साजिश का हिस्सा हो सकता है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है. इस मामले की जांच अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजय अग्रवाल कर रहे हैं और उन्होंने ही यह जानकारी दी है. 

हाई सिक्योरिटी क्षेत्र में चोरी होना हैरान करने वाला
वहीं एलपीआर रेंज जैसे हाई सिक्योरिटी इलाके में चोरी होना हैरानी की बात है. इस इलाके में कड़ा पहरा रहता है. ऐसे में यहां चोरी होने पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं. मामले की गंभीरता को देखते हुए सेना ने भी इंटरनल इंक्वायरी के आदेश दे दिए हैं. जिससे तमाम लोग जांच के घेरे में आ सकते हैं. 

सारंग और धनुष तोपों की होती है टेस्टिंग
बता दें कि एलपीआर रेंज में देश की सबसे ताकतवर तोप सारंग और धनुष की टेस्टिंग की जाती है. 125mm बैरल से लेकर 155mm बैरल तक कि उच्च तकनीकी तोपों का परीक्षण यहीं पर होता है. इसी रेंज की प्रयोगशाला में चोरी हुई. 

चोरी हुए एक खोल की कीमत करीब 2 लाख रुपए बताई जा रही है. इस मामले में 24 फरवरी की रात में एलपीआर के सूबेदार शंकर सिंह की शिकायत पर अज्ञात के खिलाफ धारा 457 और 380 आईपीसी के तहत केस दर्ज कराया गया है. 

चोरी को लेकर रक्षा मंत्रालय गंभीर
एलपीआर की प्रयोगशाला से जिस तरह चोरों ने खिड़की की ग्रिल तोड़कर तोप के तीन खोल चोरी किए , उससे हड़कंप मचा हुआ है. रक्षा मंत्रालय ने भी मामले को गंभीरता से लिया है और विभागीय जांच के आदेश दिए हैं. बहरहाल , एलपीआर प्रबंधन इस पर कुछ भी बोलने से बच रहा है.