कोरोना देता है शारीरिक और मानसिक कमजोरी: म्यूजिक थेरेपी से मानसिक मज़बूरी से जीत

खरगोन जिले के सनावद में एक निजी अस्पताल में बने कोरोना ट्रीटमेंट सेंटर में डॉक्टर, नर्स, स्टाफ अपना रहे है तरीका, म्यूजिक थेरेपी से इलाज.

कोरोना देता है शारीरिक और मानसिक कमजोरी: म्यूजिक थेरेपी से मानसिक मज़बूरी से जीत
म्यूजिक थेरेपी

खरगोन: कोरोना महामारी का प्रकोप जहां भय को बना रहा है. वहां उसके विपरीत अस्पतालों में मरीज़ के आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए उनके अकेलेपन को ख़त्म करने के लिए नए तरीके अपनाएं जा रहे हैं. इलाज के साथ मानसिक मजबूती भी प्रदान की जाए तो निश्चित ही कोरोना जैसी बीमारी पर भी पीड़ितो की जीत होगी. खरगोन जिले के सनावद में एक निजी अस्पताल में बने कोरोना ट्रीटमेंट सेंटर में डॉक्टर, नर्स, स्टाफ यही तरीका अपना रहे है. इसी कारण यहां पर कोरोना मरीजों के सुधार का प्रतिशत लगभग 100 प्रतिशत है.

कैसे किया जाता है इलाज
अस्पताल के डॉक्टर अजय मालवीय और संजय तोषनीवाल सहित स्वास्थ्यकर्मी कोरोना बीमारी से पीड़ित मरीजों का न सिर्फ अच्छे से इलाज कर रहे है बल्कि उनको मानसिक कमजोरी से बाहर करने के लिए प्रतिदिन एक घंटा थेरेपी देते हैं. जिसमें मरीज़ों को भजन गीत अच्छी स्पीच के माध्यम से उपचार देते है. इसका सीधा असर भी देखा जा रहा है. ऑक्सीजन लगे मरीज 75 प्रतिशत कोरोना से लंग्स इंफेक्शन वाले मरीज भी ठीक होते जा रहे हैं. यहां तक कि पेशेंट ख़ुद भी भजन गीत गाकर बीमारी पर स्वस्थ्य होकर जीत दर्ज कर रहे है.
डॉक्टर अजय मालवीय ठीक होने वाले मरीजों से प्रतिज्ञा भी दिलवाते है कि स्वस्थ्य होकर घर लौटने पर पांच पौधे अपने आस पास लगवाएंगे ताकि भविष्य में ऑक्सीजन संकट से हमें नहीं झूझना पड़े.
कोरोना से पीड़ित प्रवीण शर्मा अपना अनुभव बताते है कि म्यूजिक थेरेपी बहुत कुछ हम सभी को अंदर से लड़ने के लिए मजबूत कर रही है. डाक्टर स्वास्थ्य कर्मियों की कोशिशों से हम निश्चित इस बीमारी से जीत रहे है.

म्यूजिक थेरेपी से रोग दूर
हॉस्पिटल में कोरोना रोगियों को दवा के साथ-साथ  म्यूजिक थेरेपी भी दी जा रही है. इस कारण कोरोना मरीजों को जल्द ही स्वास्थ्य लाभ हो रहा है. कोविड सेंटर के  डॉ. अजय मालवीय ने बताया हम लोगो ने  मेडिसीन के साथ मोटीवेशन स्पीच भजन गीत को भी इलाज में शामिल कर लिया है. जिसका फायदा ही है कि गंभीर मरीज के भी स्वस्थ्य होने के रिजल्ट आ रहे है.
डाक्टर अजय बताते है कोरोना में मरीज शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से कमजोर होता है. म्यूजिक थेरेपी से बहुत अच्छे रिज़ल्ट आ रहे है. मरीज का अकेलेपन   घर की चिंता ख़त्म होने के साथ वह मानसिक रूप से बीमारी से मजबूती से लड़ने के लिए तैयार हो रहा है. उसी से रिज़ल्ट सुधर रहे है .

कोरोना महामारी से मुक्ति की सामूहिक कामना
डॉक्टर बताया कि सेंटर में रोजाना शाम को सात बजे भजनों और प्रार्थनाओं का प्रसारण किया जाता है. ईश्वर से कोरोना महामारी से मुक्ति की सामूहिक कामना की जाती है. इससे वातावरण में सकारात्मकता आती है और रोगियों और स्वास्थ्यकर्मियों का मनोबल बढ़ता है. डॉ. मालवीय ने बताया कि हॉस्पिटल के प्रत्येक कक्ष में स्पीकर लगाए हैं जिनके माध्यम से भजनों प्रार्थनाओं का नियमित प्रसारण किया जाता है. इसमें मरीज मरीजों के परिजन चिकित्सक स्वास्थ्यकर्मी उत्साहपूर्वक भाग लेते हैं.

ये भी पढ़ें : जज़्बा: कुछ होनहार युवा सिस्टम से हारे मरीजों को दे रहे है संजीवनी, कोरोनाकाल में लग्जरी गाड़ी को बनाया एंबुलेंस

 

WATCH LIVE TV