गांव में एक साथ निकले 14 संक्रमित, स्वास्थ्य विभाग ने बनाया ऐसा प्लान, 10 ही दिन में भगा दिया कोरोना

 इलाके को तीन जोन में बांटा. रेड जोन को पूरी तरह सील किया गया. कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग की गई. ज्यादा गंभीर मरीजों को कोविड सेंटर्स में भर्ती कराया गया. 

गांव में एक साथ निकले 14 संक्रमित, स्वास्थ्य विभाग ने बनाया ऐसा प्लान, 10 ही दिन में भगा दिया कोरोना
प्रतीकात्मक तस्वीर
Play

विमलेश मिश्र/मंडला: कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने अप्रैल और मई महीने में देशभर में कहर बरपाया. मध्य प्रदेश में तो एक समय ऐसा भी था जब 15 हजार से ज्यादा मामले हर दिन आ रहे थे, वहीं 21 जून को प्रदेश में 89 कोरोना मामलों की पुष्टि हुई. ऐसे में प्रदेश के कम्यूनिटी मॉडल की हर कोई तारीफ कर रहा है. वहीं मंडला जिले के मोतीनाला गांव ने जागरूकता की ऐसी मिसाल पेश की, जिसकी हर कोई तारीफ कर रहा है. यहां देखिए उस गांव से जी मीडिया की ग्राउंड रिपोर्ट.

'दो गज दूरी, मास्क है जरूरी'
'दो गज दूरी, मास्क है जरूरी', इसी मॉडल का पालन करते हुए देशभर के कई राज्यों ने कोरोना को मात दी. ऐसा ही कुछ मंडला जिले के मोतीनाला गांव के लोगों ने भी कर दिखाया. असर ये हुआ कि एक समय जहां प्रदेश में संक्रमण तेजी से बढ़ रहा था. वहीं इस गांव ने कोरोना की चपेट में आने के बावजूद संक्रमण को मात दे दी. 

यह भी पढ़ेंः- MP के गांव से ग्राउंड रिपोर्ट: 'टेस्टिंग, ट्रेसिंग और ट्रीटमेंट' के गजब प्लान से ग्रामीणों ने कोरोना को हराया

नक्सल प्रभावित गांव ने कोरोना को हराया
महामारी पर मोतीनाला गांव की जीत कई मायनों में अहम है. इसकी पहली वजह है छत्तीसगढ़ बॉर्डर से लगा यह जनजाति बहुल इलाका पिछड़े इलाकों में आता है. दूसरी बड़ी वजह नक्सली हैं, जिनके प्रभाव से यहां शासन अच्छी तरह से काम नहीं कर पाता. ऐसे में यहां जागरूकता अभियान चलाकर टेस्टिंग और वैक्सीनेशन कराना प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती था. 

एक साथ आए 14 संक्रमित
पंचायत सचिव दुर्गेश कुमार ने बताया कि मवई जनपद अंतर्गत आने वाले मोतीनाला गांव में एक साथ 13 से 14 संक्रमित सामने आए. स्वास्थ्य विभाग ने प्रशासन के साथ मिलकर रणनीति बनाई. पूरे इलाके में सर्वे कराया गया. इलाके को तीन जोन में बांटा. रेड जोन को पूरी तरह सील किया गया. कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग की गई. ज्यादा गंभीर मरीजों को कोविड सेंटर्स में भर्ती कराया गया. सभी संदिग्ध मरीजों को किल कोरोना किट दी गई.

यह भी पढ़ेंः- किल कोरोना अभियान! इन लोगों की मेहनत और ग्रामीणों ने जागरूकता से दी कोरोना को मात

10 दिन में कोरोना भगाया
CMHO डॉ श्रीनाथ सिंह ने बताया कि मोतीनाला गांव ने सरकार और प्रशासन के सहयोग से मात्र 7 से 10 दिनों के अंदर ही कोरोना महामारी को मात दे दी. 10 दिनों में यहां कोरोना केस जीरो हो गए. प्रदेश के कम्यूनिटी मॉडल ने साबित किया कि प्रशासन और गांव वालों के सहयोग से बड़ी से बड़ी मुश्किल भी आसान लगने लगती है. 

यह भी पढ़ेंः- कोविड से लड़ाई में ग्रामीणों ने पेश की मिसाल, कम्यूनिटी मॉडल से गांव हुआ 'कोरोना फ्री'

WATCH LIVE TV