ठगों के हौसले बुलंदः मंत्री मोहन यादव का PA बनकर महिला से लिए 75 हजार, ऐसे पुलिस के हत्थे चढ़ा ठग

पुलिस ने बताया कि मंत्री मोहन यादव के निजी सचिव ने पुलिस में शिकायत की थी, किसी शख्स ने मंत्री का निजी सचिव बनकर एक महिला के साथ ठगी की है.

ठगों के हौसले बुलंदः मंत्री मोहन यादव का PA बनकर महिला से लिए 75 हजार, ऐसे पुलिस के हत्थे चढ़ा ठग
सांकेतिक तस्वीर.

भोपालः मध्य प्रदेश में ठगों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं. क्योंकि ठग अब प्रदेश में मंत्रियों के नाम पर भी ठगी करने लगे हैं. कुछ ऐसा ही मामला राजधानी भोपाल से सामने आया है. जहां प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव का पीए बनकर ठगी किए जाने का मामला सामने आया है.

ट्रांसफर के नाम पर महिला से 75000 की ठगी
दरअसल मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने बताया कि मंत्री मोहन यादव के निजी सचिव ने पुलिस में शिकायत की थी, किसी शख्स ने मंत्री का निजी सचिव बनकर एक महिला के साथ ठगी की है. जिसके बाद पुलिस पूरे मामले में एक्टिव हुई और उस शख्स की तलाश शुरू की. पुलिस ने इस मामले में भोपाल में रहने वाले शैलेंद्र पटेल नाम के एक युवक को गिरफ्तार किया है जिसन उच्च शिक्षा मंत्री का पीए बनकर एक महिला से 75000 हजार रुपए की ठगी की  है. 

पुलिस ने बताया कि महिला ने मंत्री के असली पीए विजय बुदवानी को फोन करके पूछा कि उसका ट्रांसफर हो गया है क्या, जिसके बाद पूरा मामला सामने आया. मंत्री के सचिव ने जब महिला से पूछताछ की तो उसने बताया कि शैलेंद्र नाम के युवक उससे ट्रांसफर किए जाने के लिए 75 हजार रुपए लिए थे. उसने महिला को बताया था कि वह मंत्री का निजी सचिव है और उसका ट्रांसफर करवा देगा. जिसके बाद महिला उसके झांसे में आ गई और पैसे दे दिए. शैलेंद्र ने उसे बताया कि ट्रांसफर लेटर उसके घर आ जाएगा. लेकिन जब महिला को लेटर नहीं आया तो उसने मंत्री के पीए को फोन किया था. 

इस तरह हुआ मामले का खुलासा 
पुलिस ने बताया कि जब महिला से आरोपी के बारे में पूछताछ की गई तो उसने बताया कि ठग शैलेंद्र पटेल ने उसे एक फोटो कॉपी करने वाले युवक का नंबर दिया था. पुलिस को यही से क्लू मिला और पुलिस ने फोटो कॉपी वाले से पूछताछ के बाद ठग शैलेंद्र पटेल को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि शैलेंद्र मंत्रियों का पीए बनकर पोस्टिंग और ट्रांसफर करवाने के बदले सरकारी कर्मचारियों से पैसे लेता था. इस बार भी उसने महिला को उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव का निजी सचिव बताया था. 

पुलिस ने बताया कि ठग शैलेंद्र पटेल लैंडलाइन से अधिकारियों को फोन करता था, फिर वह फोटो कॉपी वाले का नंबर उनको देता था और यही से सारे कागजात वह लोगों से बुलवाता था. पूछताछ में आरोपी शैलेंद्र ने बताया कि वह विभाग के बारे में पता कर लेता है. जिसके बाद वह ऐसे अधिकारियों से संपर्क करता था जो ट्रांसफर करवाना चाहते थे. जो भी अधिकारी उसकी बातों में आ जाता था उससे वह पैसे ले लेता था और गायब हो जाता था. बताया जा रहा है कि शैलेंद्र पटेल भोपाल के साकेत नगर में रहता है, वह पहले भी इसी तरह मंत्रियों का पीए बनकर धोखाधड़ी कर चुका है. पुलिस ने उसे एक बार पहले भी गिरफ्तार किया था. लेकिन बाद में पह जमानत पर छूट गया था. 

ये भी पढ़ेंः MP के इस जिले में पुलिस की तीसरी आंख को हुआ ''मोतियाबिंद'', अंधेरे में सुरक्षा व्यवस्था

WATCH LIVE TV