लापरवाहीः कोरोना महामारी में लोगों को नहीं मिल रहे बेड, अस्पताल ने जश्न मनाने के लिए रोके रखे मरीज

हमीदिया अस्पताल प्रबंधन के एक निर्देश ने दोनों तरह के मरीजों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया. 

लापरवाहीः कोरोना महामारी में लोगों को नहीं मिल रहे बेड, अस्पताल ने जश्न मनाने के लिए रोके रखे मरीज
सांकेतिक तस्वीर

भोपाल: प्रदेश में कोरोना महामारी चरम पर है, कई अस्पतालों में जगह नहीं बची है. ऐसे में राजधानी के सबसे बड़े अस्पताल हमीदिया अस्पताल में भर्ती होने के लिए कई कोरोना मरीज इंतजार में है. उधर ठीक हुए मरीज घर जाना चाहते है, तो बीमार मरीज अस्पताल में भर्ती. इस बीच हमीदिया अस्पताल प्रबंधन के एक निर्देश ने दोनों तरह के मरीजों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया. 

MP से Real Heroes की दो कहानियांः TI ने सोशल मीडिया से जुटाया फंड; कोई मरीजों तक पहुंचा रहा Oxygen

दरअसल इस निर्देश में कहा गया था कि रविवार को एक साथ जश्न के साथ मरीजों को छुट्टी दी जाएगी. लिहाजा शुक्रवार और शनिवार को छुट्टी होने वाले मरीजों को अस्पताल में ही रोक दिया जाए. अब इस फैसले से दोनों ही मरीजों को काफी धक्का पहुंचा. जिसके बाद इसका काफी विरोध हुआ. 

विरोध के बाद आदेश निरस्त
कोरोना महामारी से लड़ते मरीजों के बीच उनके परिजनों ने भारी नाराजगी जताई, जिसके बाद डीन ने इस आदेश को निरस्त किया. क्योंकि कोरोना मरीजों को अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहे. ऐसे में स्वस्थ्य हो चुके मरीजों को दो दिन तक अस्पताल में रोके रखना न्यायोचित नहीं था. यह कोविड प्रोटोकॉल का उल्लघंन भी है. दरअसल इस आयोजन का मकसद था कि बड़ी संख्या में मरीज  स्वस्थ होकर निकलेंगे तो आम लोगों में धारणा बनेगी बड़ी संख्या में लोग स्वस्थ हो रहे है.

कोरोना महामारी में जरूरतमंदों का पेट भरने के लिए साथ आए बचपन के दोस्त, ऐसे कर रहे लोगों की मदद

संभागायुक्त ने दिए थे निर्देश
डॉक्टरों के व्हाटसप्प ग्रुप में हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक डॉक्टर लोकेंद्र दवे एक ऑडियो मैसेज भी डाला गया था. इसमें उन्होंने कहा है की संभागायुक्त के निर्देशानुसार शुक्रवार और शनिवार को मरीजों को छुट्टी न दी जाए.

WATCH LIVE TV