छत्तीसगढ़ की अनोखी शादीः बिलासपुर में पढ़े गए मंत्र, स्वीडन में लिए गए सात फेरे

कोरोना के चलते छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में अनोखी शादी हुई. 

छत्तीसगढ़ की अनोखी शादीः बिलासपुर में पढ़े गए मंत्र, स्वीडन में लिए गए सात फेरे
सांकेतिक तस्वीर.

शैलेंद्र सिंह ठाकुर/ बिलासपुरः कोरोना काल में शादियों में काफी बदलाव देखने मिला है. क्योंकि इस महामारी के चलते पहले की तरह शादियां नहीं हो पा रही है. शादियों में कोविड प्रोटोकाल का पालन करना जरूरी किया गया है. ऐसे में बिलासपुर में रहने वाली हर्षिता ने अपनी शादी थोड़ी अलग अंदाज में की है. 

हर्षिता ने हाइटेक अंदाज में की शादी 
दरअसल, बिलासपुर की हर्षिता ने कोरोना के चलते ऑनलाइन शादी की. हर्षिता स्वीडन में रहती है लेकिन कोरोना की वजह से उसकी शादी लगातार टल रही थी. कभी भारत में लॉकडाउन तो कभी स्वीडन में कोविड प्रोटोकॉल की वजह से परेशानी हुई. ऐसे में परिवार ने  तकनीक के साथ हाइटेक शादी करने का फैसला लिया. बीते 20 जून को स्वीडन में 25 साल की हर्षिता और 28 साल के रोहित जोशी की ऑनलाइन तरीके से शादी हो गई. 

इस तरह हुई शादी 
हर्षिता और रोहित यानि दूल्हा दुल्हन ऑनलाइन स्वीडन से जुड़े, तो दोनों के परिवार वाले बिलासपुर में मौजूद रहे यही से पंडित ने ऑनलाइन मंत्र पढ़कर हर्षिता और रोहित की शादी कराई. खास बात यह रही है कि  इस विवाह में वीडियो चैट पर 100 रिश्तेदार भी अपने-अपने घरों से शादी के इस लाइव समारोह में शामिल हुए और सात फेरों के ऑनलाइन गवाह बने. 

हर्षिता के पिता पप्पू तिवारी का कहना हैं कि बेटी और दामाद दोनों ही स्वीडन में बतौर इंजीनियर काम करते है. दोनों ने साथ-साथ पढ़ाई की और साथ ही साथ नौकरी की. कोरोना काल शुरू होने के बाद 2020 में हर्षिता और रोहित इंडिया आए! तब 18 अक्टूबर 2020 में कोरोना प्रोटोकाल के तहत उनकी सगाई करा दी गई थी. हम इस उम्मीद में थे कि कुछ महीने बाद सब कुछ नॉर्मल होगा और बेटी की शादी धूमधाम से होगी. 

पिता ने बताया कि तब कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से हर्षिता की कंपनी ने उसे वर्क फ्रॉम होम करने कहा तो हर्षिता बिलासपुर में ही रुक गईं. लेकिन रोहित 25 अक्टूबर को स्वीडन चले गए. तब से रोहित के पैरेंट्स ओमप्रकाश जोशी और मां मधु को भी शादी का इंतजार था. इसलिए 15 जून को हर्षिता भी स्वीडन चली गईं. तब दोनों परिवार ने तय किया कि बच्चों की ऑनलाइन शादी कराई जाए. क्योंकि कोविड नियमों की वजह से परिवार वालों का स्वीडन जा पाना मुमकिन नहीं हो पा रहा था. ऐसे में दोनों की ऑनलाइन शादी कराई गई. 

स्वीडन की शाम, बिलासपुर की रात
गौरतलब है कि भारत और स्वीडन टाइमिंग में तीन से चार घंटे का फर्क है. परिवार की सहमति से 20 जून को विवाह का मुहूर्त निकला. बिलासपुर में भारत की टाइमिंग के मुताबिक रात 7:30 बजे से शादी की रस्में शुरू हुईं. पंडित बिलासपुर से ही मन्त्रोच्चार करते रहे और पूजा की विधि समझाते गए, जिसे हर्षिता और रोहित फॉलो करते रहे. करीब ढ़ाई घंटे में विवाह संपन्न हुआ. हर्षिता और रोहित ने स्वीडन में दिन की रोशनी में जश्न मनाया यहां बिलासपुर में परिवार ने घर पर बने लजीज खाने की दावत का मजा लिया.

ये भी पढ़ेंः अंतरराष्ट्रीय योग दिवसः छत्तीसगढ़ में आयोजित हो रही योग मैराथन, CM बघेल समेत 10 लाख लोग शामिल

WATCH LIVE TV