जागरूकता की भारी कमी! महिलाओं ने टीकाकरण टीम को भगाया, कहा- 'वैक्सीन से ही लोग मर रहे'

निवाड़ी: देश भर में कोरोना महामारी ने हाहाकार मचा दिया, इसी बीच कुछ वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को अप्रूवल मिल गया. हर कोई वैक्सीन लगने के इंतजार में हैं, लेकिन पर्याप्त उत्पादन नहीं होने के चलते कई लोगों का इंतजार बढ़ गया.

जागरूकता की भारी कमी! महिलाओं ने टीकाकरण टीम को भगाया, कहा- 'वैक्सीन से ही लोग मर रहे'
Play

निवाड़ी देश भर में कोरोना महामारी ने हाहाकार मचा दिया, इसी बीच कुछ वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को अप्रूवल मिल गया. हर कोई वैक्सीन लगने के इंतजार में हैं, लेकिन पर्याप्त उत्पादन नहीं होने के चलते कई लोगों का इंतजार बढ़ गया. वहीं मध्य प्रदेश के कुछ गांवों में वैक्सीन को लेकर डर व अफवाहों का माहौल बरकरार है. इसी से संबंधित एक Video भी सामने आया.

'वैक्सीन ही फसाद की जड़'
Video में देखा जा सकता है कि एक कर्मचारी ऑटो के माध्यम से अनाउंसमेंट करता है. वह लोगों को जागरूक करते हुए कह रहा है कि सारी अफवाहों से दूर रहें, और वैक्सीन लगवाएं. वहीं एक महिला कहते नजर आईं कि वैक्सीन ही फसाद की जड़ है, इसी से कोरोना फैल रहा है. कई महिलाओं ने कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों की जान जा रही है.

यह भी पढ़ेंः- ऐसे हारेगा कोरोना! जब ग्रामीण ही वैक्सीनेशन टीम को भगाएंगे, देखें Video

स्वास्थ्य विभाग की टीम को भगाया
स्वास्थ्य विभाग की टीम निवाड़ी जिले के अस्तारी गांव पहुंची, जहां महिलाओं ने वैक्सीन लगाने से मना कर दिया. उन्होंने स्वास्थ्य कर्मियों को गांव से भगा दिया, ये कहते हुए कि वैक्सीन से ही कोरोना फैल रहा है, इसे जो भी लगवा रहा है उनकी जान जा रही है.

स्वास्थ्य कर्मी ने वैक्सीन लगवाने की जिद की, लेकिन महिलाओं ने उनकी एक न सुनी. अंत में स्वास्थ्य विभाग की टीम को गांव से बिना वैक्सीन लगाए ही वापस लौटना पड़ा. वायरस की चैन तोड़ने के लिए बताया गया है कि देश में कम से कम 70 फीसदी आबादी को वैक्सीन लगे. लेकिन इस तरह के अंधविश्वास और जागरूकता के अभाव में उम्मीद कम ही है कि देश की 70 फीसदी आबादी को वैक्सीन लग पाएगी. क्योंकि देश की लगभग आधी से ज्यादा आबादी गांवों में ही रहती है.  

यह भी पढ़ेंः- 4 माह पहले हुई थी शादी, जबलपुर में पत्नी ने किया सुसाइड, सदमे में पति ने जर्मनी में लगाई फांसी

WATCH LIVE TV