MP: चार बार विधायक रहे तुलसी सिलावट शिवराज सरकार में भी मंत्री, जानें कैसे रखा सियासत में कदम?

लॉकडाउन के बीच मंगलवार को शिवराज सरकार का कैबिनेट का गठन हुआ. जिसमें कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए तुलसी राम सिलावट ने भी मंत्री पद की शपथ ली.

MP: चार बार विधायक रहे तुलसी सिलावट शिवराज सरकार में भी मंत्री, जानें कैसे रखा सियासत में कदम?
फाइल फोटो

भोपाल: लॉकडाउन के बीच मंगलवार को शिवराज सरकार का कैबिनेट का गठन हुआ. जिसमें कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए तुलसी राम सिलावट ने भी मंत्री पद की शपथ ली. राजभवन में राज्यपाल लालजी टंडन ने उन्हें मंत्री पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई.

छात्रसंघ के अध्यक्ष रहे सिलावट
तुलसी राम सिलावट का जन्म 05 नवम्बर 1954 को ग्राम पिवडाय, जिला इंदौर में हुआ. उन्होंने राजनीति शास्त्र से एमए किया है. सिलावट वर्ष 1977-78 एवं 1978-79 में शासकीय कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय इंदौर के छात्र संघ अध्यक्ष रहे. वे 1978-79 एवं 1980-81 में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर के छात्रसंघ अध्यक्ष भी रहे हैं.

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष भी रहे
सिलावट 1982 में नगर निगम इंदौर के पार्षद बने. वे साल 1998 से 2003 में मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम के अध्यक्ष भी रहे. सिलावट अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य एवं प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष भी रहे हैं.

चार बार विधायक बने
1985 में वे पहली बार विधायक बने. 2007 के उपचुनाव में वो फिर विधायक बने. 2008 में भी उन्होंने तीसरी बार विधायक चुने गए. वर्ष 2018 के विधानसभा निर्वाचन में सिलावट सांवेर (अजा) विधानसभा से चौथी बार विधानसभा सदस्य निर्वाचित हुए.

ये भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कैबिनेट का विस्तार, इन पांच लोगों को मिला मंत्री पद

तुलसीराम सिलावट ने 25 दिसंबर 2018 को कमलनाथ के मंत्रिमण्डल में मंत्री पद की शपथ ग्रहण की थी. कमलनाथ सरकार से नाराज होकर उन्होंने 2020 में मंत्री और विधायक पद से इस्तीफा दे दिया था. वे सिंधिया खेमे के बड़े नेता माने जाते हैं, ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में जाने के बाद उन्होंने भी कमल का दामन थाम लिया था. 

आज शिवराज सरकार के मंत्रिमंडल में उन्होंने मंत्री पद की शपथ ली है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जो भी जिम्मेदारी मुझे देंगे, उसे बखूबी निभाउंगा. ये जय उत्सव का वक्त नहीं है संघर्ष का समय है.

Watch live tv: