close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उफनते नाले में बहीं 2 स्कूल टीचर और ड्राइवर, झंडावंदन कर लौट रहीं थीं घर, 22 घंटे बाद मिले शव

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर झंडा वंदन करने के बाद घर लौट रहीं शासकीय स्कूल बरखेड़ा बुजुर्ग की दो शिक्षिकाओं की कार उफान पर आए नाले में बह गई. जिससे कार में सवार दो शिक्षिकाओं और ड्राइवर की मौत हो गई.

उफनते नाले में बहीं 2 स्कूल टीचर और ड्राइवर, झंडावंदन कर लौट रहीं थीं घर, 22 घंटे बाद मिले शव
रेस्क्यू दल को 22 घण्टें बाद दोनों शिक्षिकाओं और ड्राइवर के शव मिल सके.

उज्जैनः स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर झंडा वंदन करने के बाद स्कूली बच्चों को मिठाई वितरित कर अपने घर लौट रही शासकीय स्कूल बरखेड़ा बुजुर्ग की दो शिक्षिकाओं की कार उफान पर आए नाले में बह गई. जिससे कार में सवार दो शिक्षिकाओं और ड्राइवर की मौत हो गई. दोनों शिक्षकाओं की मौत से पहले का हंसता-मुस्कुराता फोटो सामने आई है. जो उन्होंने अपनी एक अन्य शिक्षिका के साथ खिंचवाई थी. मिली जानकारी के मुताबिक स्कूल में कार्यक्रम खत्म होने के बाद दोनों शिक्षिका अपने घर राखी का पर्व मनाने के लिए निकली थीं, लेकिन तेज बारिश के बाद नाले में आए उफान के साथ शिक्षिकाओं सहित ड्राइवर की डूबने से मौत हो गई.

प्रशासन ने करीब 20 से 22 घंटे बाद तीनों शव और कार को बरामद कर लिए हैं. तीनों के शव पुलिस ने बरामद कर महिदपुर के सरकारी अस्पताल में पंहुचा दिए हैं. साथ ही शिक्षिकाओं के परिजनों को भी इस पूरी घटना के बारे में सूचित कर दिया है. शिक्षिकाओं के परिजनों ने बताया कि दोनों ही शिक्षिकाएं स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम के चलते उज्जैन जिले के महिदपुर स्थित बरखेड़ा बुजुर्ग गांव गईं थीं, जहां से वह ड्राइवर के साथ वापस निकली थीं. जब काफी देर तक वह घर नहीं पहुंची तो उन्हें फोन किया गया, लेकिन काफी देर तक दोनों का फोन नहीं लगा. वहीं कुछ देर बाद एक फोन आया, जिससे पता चला कि दोनों की कार नदी में तेज बहाव के साथ बह गई है.

24 साल से PM मोदी को राखी बांध रही पाकिस्तानी बहन ने कहा- खुशनसीब हूं कि मैं भारत में रहती हूं

देखें लाइव टीवी

उज्जैन में लगातार बारिश से बिगड़े हालात, क्षिप्रा नदी का जलस्तर बढ़ने से घरों में दी पानी ने दस्तक

इसी बीच प्रशासन और आसपास के ग्रामीणों ने उन्हें पुलिया के आसपास ढूंढने की कोशिश की, लेकिन अंधेरा हो जाने के कारण तीनों का कुछ पता नहीं चल सका. वहीं सुबह होने पर जब तीनों की दोबारा तलाश शुरू की गई तो रेस्क्यू दल को कार आज करीब 3 किलोमीटर दूर पर दिखाई दी, जिसमें दोनों शिक्षिका शैलजा पारखी  और नीता सहित ड्राइवर राधेशयाम की लाशें भी थीं. रेस्क्यू दल को 22 घण्टें बाद दोनों शिक्षिकाओं और ड्राइवर के शव मिल सके.