उदित राज का विवादित बयान- MP उपचुनाव में अगर बीजेपी जीती तो ये दलितों की मौत के समान

बीजेपी के आने से मध्यप्रदेश में दलितों को अपमानित होकर जीना पड़ेगा, हालत बहुत खराब हो जाएंगे क्योंकि इस समय उत्तर प्रदेश RSS की प्रयोगशाला हो गया है. दलितों पर इतना दबाब डाला जा रहा है, आत्याचार हो रहे है जिसकी कोई हद नहीं है.

उदित राज का विवादित बयान- MP उपचुनाव में अगर बीजेपी जीती तो ये दलितों की मौत के समान

ग्वालियर: अपने विवादित बयानों को लेकर हमेशा सुर्खियों में बने रहने वाले कांग्रेस के प्रचारक और राज्यसभा सांसद उदित राज फिर एक बार अपने बयानों को लेकर चर्चा में है. उन्होंने मध्यप्रदेश चुनाव को लेकर कहा कि अगर इस बार के उपचुनाव में बीजेपी को वोट देने का मतलब होगा दलितों की मौत को बुलाना. ग्वालियर की एक सभा में वह बोलें कि कांग्रेस नहीं होती तो बहुजन समाज पार्टी का अस्तित्व ही नहीं होता.   

कांग्रेसियों के बिगड़े बोल: बिना नाम लिए सिंधिया की जानवर से तुलना, शिवराज को फिर बोले शकुनि मामा

बता दें कि लोकसभा चुनाव तक उदित राज बीजेपी से सांसद रहे है. लेकिन बीजेपी से टिकट कटने के बाद वह कांग्रेस में शमिल हो गए. कांग्रेस ने उन्हें बिहार का स्टार प्रचारक बनाया है, साथ ही मध्य प्रदेश में उपचुनाव वाली सीटों पर प्रचार के लिए भेजा है.

उत्तरप्रदेश प्रयोगशाला बना
बीजेपी के आने से मध्यप्रदेश में दलितों को अपमानित होकर जीना पड़ेगा, हालत बहुत खराब हो जाएंगे क्योंकि इस समय उत्तर प्रदेश RSS की प्रयोगशाला हो गया है. दलितों पर इतना दबाब डाला जा रहा है, आत्याचार हो रहे है जिसकी कोई हद नहीं है. उन्होंने कहा कि बहुजन समाज को संरक्षण और सरकारी योजनाओं का लाभ कांग्रेस ने ही दिया है.  जिसके कारण यह समाज उठकर खड़ा हुआ और अब बहुजन समाज पार्टी को बीजेपी से तालमेल की सूझ रही है,यह गलत है.   

PM मोदी निकले जंगल सफारी पर, गुजरात में किया पार्क का उद्घाटन

पहले भी दिए है विवादित बयान
बता दें कि कुंभ मेले को लेकर विवादित बयान देने पर कांग्रेस प्रवक्ता उदित राज ने पार्टी की जमकर किरकिरी कराई थी. चौतरफा घिरे उदितराज को अपनी पार्टी के भीतर भी आलोचना का शिकार होना पड़ा था. उत्तर प्रदेश के दलित संगठनों ने भी कड़ी नाराजगी जाहिर की थी. वहीं उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के चेयरमैन डॉ.लालजी प्रसाद निर्मल ने आरोप लगाया था कि कांग्रेस प्रवक्ता उदितराज ने दलितों की आस्था का अपमान किया है.