close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उज्जैनः बहन की हत्या के बाद आरोपी ने थाने में पिया एसिड, थाना प्रभारी सहित 7 पुलिसकर्मी सस्पेंड

आरोपी युवक भरत मीना ने थाने के टॉयलेट में रखा एसिड पी लिया, जिसके कारण उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां गंभीर हालत के चलते उसे इंदौर रेफर कर दिया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

उज्जैनः बहन की हत्या के बाद आरोपी ने थाने में पिया एसिड, थाना प्रभारी सहित 7 पुलिसकर्मी सस्पेंड
आत्महत्या करने वाला युवक अपनी छोटी बहन की हत्या के आरोप में इगोरिया थाने में बंद था. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

उज्जैनः मध्य प्रदेश के उज्जैन के इंगोरिया थाने में हत्या के एक आरोपी ने एसिड पीकर सुसाइड कर लिया, जिसके बाद एसपी ने थाना प्रभारी सहित सात पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया है. आरोपी युवक भरत मीना ने थाने के टॉयलेट में रखा एसिड पी लिया, जिसके कारण उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां गंभीर हालत के चलते उसे इंदौर रेफर कर दिया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. थाने के पुलिसबल पर लापरवाही के मामले में निलंबन की कार्रवाई की गई है. सस्पेंड पुलिसकर्मियों में थाना प्रभारी प्रकाश वास्कले, एक सब इंस्पेक्टर, एक हेड पुलिस कॉन्सटेबल, तीन कॉन्सटेबल और एक नगर सैनिक शामिल है.

मिली जानकारी के मुताबिक आत्महत्या करने वाला युवक अपनी छोटी बहन की हत्या के आरोप में इगोरिया थाने में बंद था. उज्जैन जिले के इंगोरिया थाने के गांव उट्वास में रहने वाले पिता हीरालाल ने अपने पुत्र भरत मीणा के साथ मिलाकर 17 वर्षीय बेटी की गला घोंटकर हत्या कर दी थी, जिसके बाद दोनों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर बुधवार को थाना इंगोरिया में बंद कर दिया. पुलिस ने मृतका की मां और पड़ोसियों के बयान के आधार पर दोनों पिता-पुत्र को कस्टडी में लिया था. वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी लड़की की गला दबाकर हत्या का खुलासा हुआ था.

देखें लाइव टीवी

तालाब में तब्दील हुआ इंदौर का एमवाय अस्पताल, घुटनों तक भरे पानी के बीच इलाज करा रहे मरीज

जिसके बाद इंगोरिया थाने में बंद मृतका के भाई भरत मीणा ने थाने के टॉयलेट में रखा एसिड पी लिया, जिसे गंभीर हालत में जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया. हालत और अधिक बिगड़ने पर उसे इंदौर रेफर कर दिया गया. जहां आज आरोपी भरत मीणा की मौत हो गई. मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस की लापरवाही पाए जाने पर पुलिस अधीक्षक सचिन अतुलकर ने थाना प्रभारी प्रकाश वास्कले, एक सब इंस्पेक्टर, एक हेड पुलिस कॉन्सटेबल, तीन कॉन्सटेबल और एक नगर सैनिक को सस्पेंड कर दिया.