उज्जैन: महाकाल की भस्‍मारती के नाम पर ठगी, दलाली करने का वीडियो हुआ वायरल

 मुफ्त में होने वाली भस्म आरती के लिए अब 1000 से लेकर 2000 रुपे तक रुपये वसूल करते हैं. 

उज्जैन: महाकाल की भस्‍मारती के नाम पर ठगी, दलाली करने का वीडियो हुआ वायरल
महाकाल मंदिर में भस्मारती के नाम पर की जाती है ठगी

नई दिल्लीः विश्व प्रसिद्द महाकाल मंदिर में  भस्म आरती के नाम पर कालाबाजारी का मामला सामने आया है. बता दें देश भर के 12 ज्योतिर्लिंगों में सिर्फ महाकाल मंदिर में ही भस्मारती होती है. ऐसे में देश भर के श्रद्धालु महाकाल की भस्मारती करना चाहते हैं, लेकिन श्रद्धालुओं की संख्या अधिक होने के कारण सबको भस्मारती की अनुमति नहीं मिल पाती. ऐसे में महाकाल की भस्मारती संबंधी एक वीडियो सामने आ रहा है. इस वीडियो में श्रद्धालुओं से भस्मारती के नाम पर पैसे की वसूली की जाती है. जबकि महाकाल मंदिर में भस्मारती बिल्कुल निःशुल्क है. 

वीडियो वायरल होने के बाद सामने आया मामला
वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस-प्रशासन ने इस धंधे में लिप्त लोगों की कड़ियां जोड़ना शुरू कर दिया है. वीडियो में दिख रहे आरोपी युवक अंकित दुबे को जेल भेज दिया गया है. वहीं जांच में कुछ अन्य लोगों से भी पूछताछ भी की है. पूछताछ में जो लोग उपस्थित नहीं हुए, उनके खिलाफ समन जारी किया गया है. संभावना है कि कालाबाजारी के धंधे में जल्द कुछ और नाम सामने आ सकते हैं. इसके आलावा एक और विडियो सामने आया जिसमे होटल संचालक अपने होटल में कमरा देने के बाद भस्म आरती की सामान्य परमिशन 700 और VIP परमिशन 1000 रुपये में करवाने की बात कर रहा है. 

महाकाल मंदिर के सामने यूं हुआ देसी WWE, जमकर चले लात-घूंसे

1000 से 2000 तक की वसूली करते हैं दलाल
बता दें महाकाल मंदिर में अल सुबह होने वाली भस्म आरती में हर श्रद्धालु शामिल होना चाहता है, लेकिन मंदिर प्रशासन सिर्फ 1650 श्रद्धालुओं को इसमें शामिल कर सकेत हैं. ऐसे में श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या को देख काला बाजारियों की नजर भी भस्मारती पर पड़ गई. ये लोग मुफ्त में होने वाली भस्म आरती के लिए अब 1000 से लेकर 2000 तक रुपये वसूल करते हैं. मामले की जांच के अंतर्गत एडीएम जीएस डाबर ने आरोपी अंकित से पूछताछ की है. अंकित ने बताया था कि पूर्व में वह अपने यजमानों को भस्म आरती करवाता था और उक्त वीडियो उसी से संबंधित है.

महाकाल मंदिर में टूटा अब तक का रिकॉर्ड, 9 महीने में चढ़े 12 करोड़, नहीं दिखा नोटबंदी का असर

भस्मारती के नाम पर कालाबाजारी में मंदिर के कर्मचारियों का भी नाम
आरोपी ने कुछ ऑटो चालक, मंदिर के कर्मचारी, होटल संचालक व कुछ पंडे-पुजारियों के नाम भी बताए थे. मामले में महाकाल पुलिस ने अंकित को धारा 151 के तहत गिरफ्तार कर सिटी मजिस्ट्रेट अनिल बनवारिया की कोर्ट में पेश किया. जहां से उसे जेल भेज दिया गया है. पूरे मामले में कुछ मंदिर कर्मचारियों के नाम भी सामने आये है लेकिन ये जांच के बाद साफ़ हो पायेगा.