close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उज्जैन में लगातार बारिश से बढ़ा क्षिप्रा का जलस्तर, स्टापडेम हुए ओवरफ्लो

अब तक 24 घंटे में 37 मिमी बारिश दर्ज की गई. वहीं नागदा तेहसील की चम्बल नदी भी उफान पर है. चंबल नदी के पास बने बने चामुंडा माता मंदिर भी जलमग्न हो गया है.

उज्जैन में लगातार बारिश से बढ़ा क्षिप्रा का जलस्तर, स्टापडेम हुए ओवरफ्लो
बारिश से सड़कें भी पानी में डूब गई हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन के आस पास के इलाकों में पिछले 24 घंटे से लगातार हो रही बारिश के कारण क्षिप्रा नदी का जलस्तर आज बढ़ गया है. नदी किनारे रामघाट स्थित कई मंदिर डूब गए हैं. वहीं शहर में भी बारिश के कारण एक मकान के ऊपर गिरने की भी खबर है. नागदा तहसील की चम्बल नदी भी उफान पर है. चम्बल नदी में बने चामुंडा माता मंदिर भी जलमग्न हो गया है. हर तरफ पानी ही पानी नजर आ रहा है. ऐसे में हर कोई इस बात से चिंता में है कि कहीं अब पानी उनके लिए मुसीबत न बन जाए.

उज्जैन 24 घंटे से लगातार हो रही बारिश के बाद शहर में क्षिप्रा नदी का जलस्तर बढ़ गया है, जिसके कारण उज्जैन बडनगर मार्गों को मिलाने वाला शिप्रा नदी पर बना छोटा पुल पानी में डूब गया है. ऐसे में अब शहरवासियों को और बड़नगर आने और जाने वालों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इसी तरह रामघाट  स्थिति मंदिर भी पानी में डूबे हुए नजर आए. इधर शहर में भी लगातार बारिश के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त नजर आ रहा है. अब तक 24 घंटे में 37 मिमी बारिश दर्ज की गई. वहीं नागदा तेहसील की चम्बल नदी भी उफान पर है. चंबल नदी के पास बने बने चामुंडा माता मंदिर भी जलमग्न हो गया है.

मध्य प्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

बता दें उज्जैन और इसके आस-पास के इलाकों में अब तक कुल 166 मिली मीटर बारिश हो चुकी है, जिससे कई इलाकों में पानी भरना भी शुरू हो गया है. बीती रात निजातपुरा में देर रात एक घर के ऊपर पेड़ गिर गया. समय रहते घर में रह रहे लोग बाहर निकल आए, जिससे बड़ा हादसा होते-होते रह गया. उज्जैन में फिलहाल, अभी भी लगातार धीरे-धीरे बारिश हो रही है. वहीं मुंबई में मची तबाही से सबक लेते हुए प्रशासन भी उज्जैन में हुई बारिश को लेकर मुस्तैद दिखाई दे रहा है.