close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उज्जैनः विस्फोट होते ही भरभरा कर गिर गया करोड़ों की लागत से बना अलीशान होटल, देखें Video

 होटल के दो हिस्सों को बुधवार को 34 किलो विस्फोटक लगाकर ध्वस्त किया गया, वहीं एक हिस्से को गुरुवार को गिराया गया. सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर शांति क्लार्क होटल के पास वाले विक्रमादित्य होटल को पहले ही खाली करा दिया गया था.

उज्जैनः विस्फोट होते ही भरभरा कर गिर गया करोड़ों की लागत से बना अलीशान होटल, देखें Video
पिलर्स में विस्फोटक लगा कर होटल को गिराया गया. (फोटो साभारः ANI)

उज्जैनः मध्य प्रदेश के उज्जैन में बुधवार को करोड़ों की लागत से बने एक बहुमंजिला होटल को विस्फोट करके उड़ा दिया गया. बता दें उज्जैन में यह होटल 20 करोड़ की लागत से अवैध रूप से बनाया गया था, जिसे लेकर हाईकोर्ट ने 6 मंजिला होटल शांति क्लार्क एंड सुईट्स को ढहाने का आदेश दिया था. ऐसे में कई दिनों से इस होटल को ढहाने की कवायद चल रही थी, जिसके बाद बीते बुधवार को इसे विस्फोट के जरिए ध्वस्त कर दिया गया. होटल के दो हिस्सों को बुधवार को 34 किलो विस्फोटक लगाकर ध्वस्त किया गया, वहीं एक हिस्से को गुरुवार को गिराया गया. सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर शांति क्लार्क होटल के पास वाले विक्रमादित्य होटल को पहले ही खाली करा दिया गया था.

मिली जानकारी के मुताबिक इस होटल का निर्माण बिना भूमि डायवर्सन के नक्शा स्वीकृत करा कर किया गया था. शांति पैलेस होटल के मालिक पर नगर निगम के अधिकारियों से सांठ-गांठ करके इस होटल के निर्माण की स्वीकृति का आरोप लगा था, जिसके बाद यह मामला हाईकोर्ट पहुंचा और कोर्ट ने इसे अवैध ठहरा दिया. कोर्ट के आदेश के बाद इसे विस्फोटक के जरिए गिरा दिया गया. नगर निगम की टीम ने जेसीबी और पोकलेन की मदद से इस इमारत को गिराने का काम शुरू किया.

पश्चिम बंगाल में फैली राजनीतिक हिंसा के रोकथाम के लिए उज्जैन पहुंचे पुजारी, करेंगे महारुद्राभिषेक

इस दौरान नगर निगम की टीम के साथ पुलिस बल भी मौजूद रहा, ताकि किसी भी तरह की अनहोनी न होने पाए. बता दें इससे पहले ही बिल्डिंग को कमजोर करने का काम शुरू कर दिया गया था. जिसके तहत होटल की सभी 101 पिलर्स में पहले तो बारूद भरा गया और फिर सुरक्षा व्यवस्था के साथ ब्लास्ट कर इसे उड़ा दिया गया. इसके लिए इंदौर के विस्फोट विशेषज्ञ शरद सरवटे भी उज्जैन पहुंचे थे. जिनकी देखरेख में पिलर्स में विस्फोटक लगाया गया और फिर देर शाम 20 करोड़ की लागत से बने इस होटल को उड़ा दिया गया.