close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विदिशाः आरक्षकों ने किसान पिता-पुत्र की सरेआम लात-घूसों से करी पिटाई

किसानों में बहस होती देख दो पुलिस आरक्षकों ने वीरेंद्र दांगी, निवासी ग्राम आटा सेमर और उसके बेटे की जमकर पिटाई कर दी.

विदिशाः आरक्षकों ने किसान पिता-पुत्र की सरेआम लात-घूसों से करी पिटाई
भावांतर योजना के अंतर्गत पंजीयन के लिए पहुंचे थे किसान

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश के विदिशा में किसान पिता-पुत्र की पिटाई का मामला सामने आया है. मामला विदिशा के गंज बासौदा का है. जहां भावंतर योजना के अंतर्गत पंजीयन कराने आए किसान पिता-पुत्र की दो आरक्षकों ने मिलकर पिटाई कर दी. वहीं किसानों की पिटाई होते देख किसी ने इसका वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया. जिसके बाद यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. मिली जानकारी के मुताबिक पंजीयन मार्केटिंग सोसायटी में भीड़ बहुत ज्यादा थी. ऐसे में दो किसानों में आपसी बहस हो गई. किसानों में बहस होती देख दो पुलिस आरक्षकों ने वीरेंद्र दांगी, निवासी ग्राम आटा सेमर और उसके बेटे की जमकर पिटाई कर दी.

दोनों आरक्षक निलंबित
वहीं पीड़ित किसानों ने जब पुलिस द्वारा पिटाई की शिकायत दर्ज कराई तो तत्काल प्रभाव से दोनों आरक्षकों को निलंबित कर दिया गया. वहीं थाने में पहुंचकर एसडीओपी देवेंद्र यादव ने मामले की सूचना मिलने पर इसकी जांच की बात कही है. एसडीओपी देवेंद्र यादव के मुताबिक वह जल्द से जल्द मामले की तह तक जाने की कोशिश कर रहे हैं. साथ ही उन्होंने पीड़ित किसानों से भी बात की है और उन्हें इंसाफ दिलाने की बात कही है.

भावंतर योजना के अंतर्गत पंजीयन के लिए पहुंचे थे
मिली जानकारी के मुताबिक भावंतर योजना का लाभ लेने के लिए दोनों किसान अपना पंजीयन कराने के लिए पंजीयन मार्केटिंग सोसायटी पहुंचे थे. पंजीयन का आखिरी समय होने के कारण भारी संख्या में वहां किसान पहुंचे थे. ऐसे में सभी किसान लाइन लगाकर खड़े थे. तभी अचानक एक किसान बीच लाइन में घुसने की कोशिश करने लगा. जिससे दो किसानों में बहस होने लगी. धीरे-धीरे यह बहस काफी बढ़ गई. जिसे शांत कराने के लिए लोगों ने पुलिस को फोन कर दिया.

पुलिस ने मदद करने के बजाय पीटना शुरू कर दिया
वहीं मौके पर पहुंची पुलिस ने मामला शांत कराने के बजाय उल्टा किसानों की ही पिटाई शुरू कर दी. पुलिस द्वारा पिटाई के बाद दोनों किसानों को काफी चोटें आई हैं. दोनों किसानों के शरीर पर पिटाई के कारण कई निशान भी पड़ गए हैं. दोनों आरक्षकों पर आरोप लगाते हुए किसान वीरेंद्र दांगी और उसके बेटे ने बताया कि 'मौके पर पहुंची पुलिस ने उनकी मदद करने के बजाय डंडे से उनकी पिटाई शुरू कर दी. जिसमें उन्हें काफी चोटें आई हैं. दोनों पुलिस आरक्षकों ने खाकी वर्दी का फायदा उठाकर उनकी बहुत पिटाई की. इसकी रिपोर्ट उन्होंने गंज बासौदा थाने में कराई है.'