close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

व्यापम व्हिसिल ब्लोअर की जान को पुलिस से ही है सबसे ज्यादा खतरा

मध्यप्रदेश के व्यापम घोटाले के व्हिसिल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी की जान को पुलिस से ही सबसे ज्यादा खतरा है.

व्यापम व्हिसिल ब्लोअर की जान को पुलिस से ही है सबसे ज्यादा खतरा
NGO का दावा पुलिस से व्हिसिल ब्लोअर को खतरा (फाइल फोटो-Zee)

नई दिल्ली: मध्यप्रदेश के व्यापम घोटाले के व्हिसिल ब्लोअर आशीष चतुर्वेदी की जान को पुलिस से ही सबसे ज्यादा खतरा है. दक्षिण भारत की ह्यूमन राइट डिफेंडर्स अलर्ट-इंडिया नामक संस्था ने इस संबंध में मानवाधिकार आयोग और यूएनओ को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने आशीष की सुरक्षा बढ़ाए जाने की अपील की है. इस पत्र में पुलिस पर आशीष के मानवाधिकार हनन, निजता हनन और प्रताड़ना का आरोप लगाया गया है. इस आधार पर पुलिस अधिकारियों के खिलाफ जल्द कार्रवाई की भी मांग की गई है.

ग्वालियर निवासी आशीष चतुर्वेदी की सुरक्षा को लेकर ह्यूमन राइट डिफेंडर्स अलर्ट-इंडिया ने 22 सितंबर को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को भेजे गए पत्र में आशीष की सुरक्षा से खिलवाड़, निजता हनन और मानवाधिकार हनन का उल्लेख करते हुए पुलिस पर कार्रवाई की अपील की है. जानकारी के मुताबिक, पत्र में आशीष की पुलिस द्वारा वीडियो रिकार्डिंग, सुरक्षा में तैनात सिपाहियों, टीआई और पुलिस अधिकारियों द्वारा आशीष के साथ हिंसा और धमकाने को आधार बनाया गया है.

मीडिया खबरों के मुताबिक, इस पत्र की कॉपी यूएनओ के ह्यूमन राइट हाईकमिश्नर, एशियन फोरम फॉर ह्यूमन राइट एंड डेवलमेंट और आयरलैंड के द इंटर नेशनल फॉउंडेशन फॉर द प्रोटेक्शन ऑफ ह्यूमन राइट कमीशन को भेजी गई है.

वहीं इस मामले में आशीष चतुर्वेदी का भी बयान सामने आई है. उन्होंने कहा कि उन्हें एनजीओ के जरिए पत्र लिखे जाने की सूचना मिली है. इस संबंध में ग्वालियर पुलिस की ओर से किसी तरह की प्रक्रिया सामने नहीं आई है. गौरतलब है कि व्हिसिल ब्लोअर के रूप में सामने आने के बाद से आशीष को पुलिस सुरक्षा मिली हुई है. उसके साथ हमेशा पुलिसकर्मी तैनात रहता है.