Video: 'शिव-राज' में पानी की किल्लत हुई जानलेवा, कुएं में उतर कर पानी निकाल रहीं महिलाएं

प्रदेश में पानी की आपूर्ति एक बड़ी समस्‍या बनकर सामने आ रही है. इसी बीच मध्‍यप्रदेश के शाहपुरा के एक गांव से हैरान कर देने वाला वीडियो सामने आया है. 

Video: 'शिव-राज' में पानी की किल्लत हुई जानलेवा, कुएं में उतर कर पानी निकाल रहीं महिलाएं

भोपाल: प्रदेश में पानी की आपूर्ति एक बड़ी समस्‍या बनकर सामने आ रही है. दैनिक कार्यों के लिए पानी की किल्‍लत से परेशान लोग कहीं गंदा पानी इस्‍तेमाल करने को मजबूर हैं तो कहीं-कहीं कई किलोमीटर दूर जाकर पानी लाना पड़ा रहा है. इसी बीच मध्‍यप्रदेश के शाहपुरा के एक गांव से हैरान कर देने वाला वीडियो सामने आया है. 

न्‍यूज एजेंसी ANI पर जारी किए इस वीडियो में शाहपुरा के डिंडोरी में पानी के लिए लड़कियां कुएं में लगी ईटों पर पैर रखकर अंदर उतर रही हैं. नीचे का नजारा और भी विचलित कर देने वाला है. कुएं की तली में मौजूद पानी भी सूखने की कगार पर है. इसलिए गांव के लोग इस कुएं में उतर कर पानी निकालने को मजबूर हैं. जिले के एसडीएम का कहना है कि गांव वालों को रोज 2 टैंकर पानी के मुहैया कराए जा रहे हैं. लेकिन क्‍या दो टैंकर गांव वालों की पानी की जरूरतों को पूरा कर पा रहे हैं. शायद नहीं तभी इन महिलाओं को पानी के लिए अपनी जान जोखि‍म में डालकर पानी लाना पड़ रहा है. 

प्रदेश के कई हिस्‍से पानी से परेशान 
गर्मी का पारा चढ़ते ही प्रदेश में सूखे की मार से पेयजल की समस्या गहराने लगी है. प्रदेश के कई हिस्सों में लोग रोज ही इस समस्या से दो-चार होते हैं. सूखे से जूझ रहे मध्य प्रदेश के बुन्देलखण्ड क्षेत्र के टीकमगढ़ जिले का हाल भी ऐसा ही है. यहां  पानी की किल्लत के चलते गांव की महिलाएं अपनी ससुराल छोड़कर मायके चली गई हैं.

MP: 'जलसंकट' से जूझ रहे इस गांव की महिलाओं ने छोड़ दिए बच्चे और ससुराल

बुंदेलखंड में 60 फीसदी पानी के स्‍त्रोत सूखे
वहीं एक रिपोर्ट के मुताबिक बुंदेलखंड वह इलाका है जहां 60 फीसदी से ज्यादा जल स्त्रोत पूरी तरह सूख चुके हैं, फसलों की पैदावार मुश्किल हो गई है. रोजगार के अवसर नहीं हैं, 50 फीसदी से ज्यादा लोग पलायन कर गए हैं. गांव में अब सिर्फ बुजुर्ग और बच्चे ही ज्यादा बचे हैं. 

दमोह में थाना प्रभारी ने की मदद 
प्रदेश में पानी की समस्या ग्रामीण इलाकों में और भी ज्यादा भयावह हो जाती है. ऐसा ही एक मामला दमोह जिले में सामने आया है. भीषण सूखे की चपेट में आए दमोह जिले के ग्रामीण इलाकों में पीने के पानी की किल्लत से लोगों को जूझना पड़ रहा है. कहीं लोग गंदे नालों का पानी पीने मजबूर हैं, तो कहीं मीलों का सफर तय करने के बाद लोग पीने का पानी ला रहे हैं. इन सबके बीच एक थाना प्रभारी के प्रयास ने ग्रामीणों की इस गंभीर समस्या का अंत कर दिया है. थाना प्रभारी सुधीर ने स्टाफ के साथ मिलकर निजी पैसों से बोरवेल में सबमर्सिबल पंप लगवाकर ग्रामीणों को जलसंकट से निजात दिला दी.