close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: भोपाल सहित कई शहरों में छाए हुए हैं बादल, 24 घंटे में हो सकती है बारिश

राज्य के मौसम में बदलाव का दौर जारी है. बुधवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 23.2 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 21.6, ग्वालियर का 23.8 और जबलपुर का न्यूनतम तापमान 24.1 सेल्सियस दर्ज किया गया. 

MP: भोपाल सहित कई शहरों में छाए हुए हैं बादल, 24 घंटे में हो सकती है बारिश
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल सहित राज्य के कई हिस्सों में बुधवार को बादल छाए हुए हैं और बारिश की संभावना बनी हुई है. राज्य में बुधवार की सुबह से मौसम सुहावना बना हुआ है, बादल छाए हुए हैं और हवाएं चलने से गर्मी का असर कम है. वहीं, बीच-बीच में मौसम साफ होने और तेज धूप होने पर उमस बढ़ जाती है. मौसम विभाग के अनुसार, राज्य में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण कई हिस्सों में आगामी 24 घंटों में बारिश हो सकती हैं. बीते 24 घंटों के दौरान भी कई स्थानों पर बादल बरसे.

राज्य के मौसम में बदलाव का दौर जारी है. बुधवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 23.2 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 21.6, ग्वालियर का 23.8 और जबलपुर का न्यूनतम तापमान 24.1 सेल्सियस दर्ज किया गया. वहीं, मंगलवार को भोपाल का अधिकतम तापमान 27.5 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 29.4 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर का 35 डिग्री सेल्सियस और जबलपुर का अधिकतम तापमान 30.4 डिग्री सेल्सियस रहा. 

MP के 17 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, कई शहरों में ऑरेंज अलर्ट हुआ जारी

Weather Report

इन जिलों में मची है सबसे ज्यादा तबाही 
बाढ़ का सबसे ज्यादा असर मंदसौर जिले में है. यहां गांधी सागर बांध और चंबल नदी का पानी घुस रहा है. यहां बाढ़ से 12 हजार 800 लोग प्रभावित हुए हैं, जिनमें से 10 हजार लोगों को राहत कैम्प में ठहराया गया है. पूरे जिले में 53 राहत कैम्प स्थापित किए गए हैं. आवागमन ठप्प हो जाने से मार्ग में फंसे 470 लोगों को राहत शिविरों में ठहराया गया है, जहां उन्हें सोने और भोजन आदि की सुविधा उपलब्ध करवाई गई. इसी तरह नीमच जिले में 150 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया. राहत और बचाव दलों ने रतलाम में 250, आगर मालवा में 750 को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया. श्योपुर जिले के 12 गांवों में फंसे लोगों को शिविरों में भेजा गया है। दमोह और रायसेन में भी राहत और बचाव कार्य जारी है.