close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पश्चिम बंगाल: स्कूल के छात्रों को लगा फिल्मस्टार्स के हेयरस्टाइल का चस्का, शिक्षक परेशान

मशहूर फुटबॉलर रोनाल्डो जैसे बाल कटवा रखे हैं तो किसी ने शाहरुख खान की नकल की हुई है तो कोई आमिर और ऋतिक रोशन जैसे बाल कटवाए है.

पश्चिम बंगाल: स्कूल के छात्रों को लगा फिल्मस्टार्स के हेयरस्टाइल का चस्का, शिक्षक परेशान
प्रधान शिक्षक ने विभिन्न क्लासो में जाकर के छात्रों के बाल, यूनिफार्म और आई कार्ड की जांच की

परगना: भांगोड़ में छात्रों के बालों के स्टाइल को देख शिक्षक काफी परेशान हैं. किसी के बाल लाल, किसी के बादामी रंग के बाल तो किसी ने गुलाबी रंग अपने बालो में लगाकर अपनी शोभा बढ़ाने की कोशिश की है. सिर्फ रंग ही नहीं इन छात्रों के हेअरकट का स्टाइल भी अलग अलग है. 

किसी ने मशहूर फुटबॉलर रोनाल्डो जैसे बाल कटवा रखे हैं तो किसी ने शाहरुख खान की नकल की हुई है तो कोई आमिर और ऋतिक रोशन जैसे बाल कटवाए है. अगर क्रिकेटर की बात करें तो हार्दिक पंड्या के स्टाइल में भी किसी किसी ने बाल काट रखे हैं. अपने से बड़ो या यूं कहे कि अपने अपने आदर्श को मानते हुए इन बच्चो ने इस तरह से बाल कटवाए है और स्कूल में आकर अन्य बच्चो को भी प्रभावित कर रहे हैं. छात्रों की इस हरकत को देख शिक्षक विडंबना में पड़ गए हैं क्योंकि आज की डेट में यह सब एक तरह का फैशन स्टेटमेंट हो गया है. जिसके चलते बच्चों की पढ़ाई पर भी असर पड़ता दिख रहा है.

भांगोड़ के 2 नंबर ब्लॉक के हातिशाला सरोजिनी मदरसा में बालों का फैशन पूरे इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है. मदरसा के प्रधान शिक्षक इरफान अली ने मैनेजिंग कमिटी के सामने इस समस्या को लेकर अपनी बात रखी और इनके समर्थन में बाकी शिक्षक भी उतरे. इसके बाद प्रधान शिक्षक ने विभिन्न क्लासो में जाकर के छात्रों के बाल, यूनिफार्म और आई कार्ड की जांच की और अगर कोई भी अलग थलग दिखा तो तुरंत क्लास से बाहर कर दिया. भांगोड़ के इस मदरसे में काम से काम 3000 हजार छात्र पढ़ने आते हैं और शिक्षक 40 के बराबर हैं.

प्रधान शिक्षक ने बताया कि इस मदरसे का काफी नाम है और यहां पढ़ने वाले छात्र छात्राओं ने इसकी परवाह न करते हुए अपनी मर्जी चला रहे है. आए दिन कपड़ों और बालो का फैशन बदल और बढ़ रहा है और अब अभिभावकों से बात कर सभी शिक्षकों की सहयोगिता के साथ अब वहां पढ़ने वाले छात्रों की मॉनिटरिंग की जा रही है.