Gujarat Assembly Election 2022: मूंछें हों तो मगनभाई सोलंकी जैसी! गुजरात चुनाव में इस उम्मीदवार की अजीबोगरीब पहचान
topStories1hindi1465896

Gujarat Assembly Election 2022: मूंछें हों तो मगनभाई सोलंकी जैसी! गुजरात चुनाव में इस उम्मीदवार की अजीबोगरीब पहचान

Gujarat Vidhan Sabha Election 2022: हिम्मत नगर से निर्दलीय उम्मीदवार मगनभाई सोलंकी सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बने हुए हैं. सेना से रिटायर होने के बाद वो तीसरी बार चुनाव लड़ रहे हैं.

Gujarat Assembly Election 2022: मूंछें हों तो मगनभाई सोलंकी जैसी! गुजरात चुनाव में इस उम्मीदवार की अजीबोगरीब पहचान

Gujarat Assembly Election Voting: गुजरात (Gujarat) में आज (गुरुवार को) पहले चरण का मतदान जारी है. यहां के हिम्मतनगर में एक निर्दलीय उम्मीदवार हैं मगनभाई सोलंकी (Maganbhai Solanki), जिनकी मूंछें चर्चा का विषय बनी हुई हैं. चुनावी मैदान में निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में उतरे मगनभाई सोलंकी की ढाई फीट लंबी मूछें हैं. उनसे मिलने वाला हर शख्स उनके साथ फोटो खिंचवाने के लिए आतुर रहता है. मगनभाई सोलंकी जिस सीट से चुनाव लड़ रहे हैं उसपर फिलहाल बीजेपी का कब्जा है. चुनाव में जीत मिले या नहीं, लेकिन मगनभाई सोलंकी ने अपनी मूछों से पहले ही सबका दिल जीत लिया है.

हिम्मतनगर सीट से उम्मीदवार हैं सोलंकी

बता दें कि मगनभाई सोलंकी की उम्र 57 साल है और वह साबरकांठा जिले की हिम्मतनगर सीट से चुनाव लड़ रहे है. मगनभाई सोलंकी को अधिकतर लोग उनकी ढाई फुट लंबी मूंछों के कारण पहचानते हैं. हिम्मतनगर सीट पर गुजरात विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में 5 दिसंबर को वोटिंग होगी.

सेना से रिटायर हैं मगनभाई सोलंकी

जान लें कि मगनभाई सोलंकी सेना से साल 2012 में मानद लेफ्टिनेंट के पद से रिटायर हुए हैं. उनका कहना है कि उनको चुनाव लड़ना बहुत पसंद है. वह पिछले गुजरात विधानसभा चुनावों के बाद से चुनाव में भाग ले रहे हैं. मगनभाई सोलंकी ने कहा कि मैं तब बीएसपी का उम्मीदवार था. चुनाव में हार हुई थी लेकिन हार नहीं मानी. साल 2019 में लोकसभा चुनाव भी लड़े. और अब एक बार फिर निर्दलीय के रूप में चुनावी मैदान में हैं.

ध्यान आकर्षित करती हैं सोलंकी की मूछें

मगनभाई सोलंकी ने दावा किया कि उन्होंने वेस्ट, ईस्ट से लेकर नॉर्थ तक कई सीमाओं पर काम किया है. उन्होंने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान वो जहां भी जाते हैं, लोगों का ध्यान उनकी मूंछों पर जरूर जाता है.

उन्होंने कहा कि जब वो सेना में थे, उनकी मूंछें ध्यान आकर्षित करती थीं. सीनियर अधिकारी भी इसकी तारीफ करते थे. जब वो चुनाव लड़ रहे होते हैं तो लोग उनकी मूंछें देखकर हंसते हैं. बच्चे छूने की कोशिश करते हैं.

(इनपुट- भाषा)

पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi - अब किसी और की ज़रूरत नहीं

Trending news