कोल्हापुर के महालक्ष्मी मंदिर में छोटे कपड़े पहन कर जाने पर रोक

सरकार द्वारा नियुक्त समिति के अध्यक्ष महेश जाधव ने कहा कि समिति ने कोई ड्रेस कोड लागू नहीं किया है बल्कि दर्शनार्थियों से केवल छोटे कपड़े नहीं पहनने की अपील की है.

कोल्हापुर के महालक्ष्मी मंदिर में छोटे कपड़े पहन कर जाने पर रोक
महिला अधिकार कार्यकर्ता तृप्ति देसाई ने चेतावनी दी है कि अगर कोई ‘ड्रेस कोड’ लागू करने की कोशिश की गई तो आंदोलन किया जाएगा.

मुंबई: पश्चिम महाराष्ट्र देवस्थान समिति ने नवरात्रि पर्व से पहले श्रद्धालुओं से अपील की है कि पश्चिम महाराष्ट्र के कोल्हापुर में प्रसिद्ध महालक्ष्मी मंदिर में दर्शन के लिए आते समय छोटे कपड़े पहनकर नहीं आएं. पश्चिम महाराष्ट्र में 3000 से अधिक मंदिरों का प्रबंधन देखने वाली समिति के फैसले के बाद महिला अधिकार कार्यकर्ता तृप्ति देसाई ने चेतावनी दी है कि अगर कोई ‘ड्रेस कोड’ लागू करने की कोशिश की गयी तो आंदोलन किया जाएगा. सरकार द्वारा नियुक्त समिति के अध्यक्ष महेश जाधव ने कहा कि समिति ने कोई ड्रेस कोड लागू नहीं किया है बल्कि दर्शनार्थियों से केवल छोटे कपड़े नहीं पहनने की अपील की है.

कोल्हापुर से फोन पर पीटीआई से बातचीत में जाधव ने कहा, ‘‘हमें देशभर से हजारों पत्र और ईमेल मिले हैं जिनमें सुझाया गया है कि मंदिर की शुचिता बनाकर रखी जानी चाहिए. समिति की दो महिला सदस्यों ने भी इससे सहमति जताई, इसलिए हमने दो दिन पहले प्रस्ताव पारित किया और लोगों से महालक्ष्मी मंदिर के दर्शन करने आते समय उचित परिधान पहनकर आने की अपील की.’’ 

उन्होंने कहा कि अगर कोई मंदिर में छोटे-छोटे कपड़े पहनकर आ भी जाता है तो उन्हें दर्शन से नहीं रोका जाएगा. जाधव ने कहा, ‘‘हम लोगों को उचित परिधान पहनने के लिए चेंजिंग रूम की व्यवस्था भी करने को तैयार हैं.’’ तृप्ति देसाई ने कहा कि वह और उनकी समर्थक महालक्ष्मी मंदिर में कोई भी ड्रेस कोड लागू करने के प्रयास का विरोध करेंगी. देसाई अहमदनगर जिले के शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे पर आंदोलन करके सुर्खियों में आई थीं.

उन्होंने कहा, ‘‘दर्शनार्थियों से शरीर को पूरी तरह ढककर आने के लिए कहना या महिलाओं के लिए साड़ी को अनिवार्य बनाना ‘फतवा’ की तरह है. यह असंवैधानिक होगा और उच्चतम न्यायालय के हालिया फैसलों के विरुद्ध होगा.’’

(इनपुट-भाषा)

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.