इस्तीफे के बाद एकनाथ खड़से का बयान-मेरे खिलाफ लगे सभी आरोप बेबुनियाद हैं

भ्रष्टाचार के आरोपों पर महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री पद से शनिवार को इस्तीफा देने वाले एकनाथ खड़से ने कहा कि उनके खिलाफ लगे सभी आरोप बेबुनियाद हैं। खड़से ने कहा कि राजनीतिक साजिश के तहत उन पर आरोप लगाए गए। गौरतलब है कि खड़से ने आज मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस से मुलाकात करने के बाद उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया।

इस्तीफे के बाद एकनाथ खड़से का बयान-मेरे खिलाफ लगे सभी आरोप बेबुनियाद हैं

मुंबई : भ्रष्टाचार के आरोपों पर महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री पद से शनिवार को इस्तीफा देने वाले एकनाथ खड़से ने कहा कि उनके खिलाफ लगे सभी आरोप बेबुनियाद हैं। खड़से ने कहा कि राजनीतिक साजिश के तहत उन पर आरोप लगाए गए। गौरतलब है कि खड़से ने आज मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस से मुलाकात करने के बाद उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया।

खड़से पर जमीन घोटाले और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से संपर्क रखने का आरोप है।

राजस्व मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए खड़से ने कहा, 'मेरे खिलाफ लगे सभी आरोप बेबुनियाद हैं। राजनीतिक साजिश के तहत मेरे ऊपर आरोप लगाए गए हैं। मेरे खिलाफ अगर कोई सबूत मिला तो मैं राजनीति से संन्यास ले लूंगा।'

खड़से ने कहा कि कोई भी उनके खिलाफ सबूत नहीं दे पाया है। भाजपा नेता ने कहा कि 40 साल के राजनीतिक सफर के दौरान उन पर कोई आरोप नहीं लगे और 40 साल की राजनीति में उन्होंने ऐसा मीडिया ट्रायल नहीं देखा।

भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर सवालों के घेरे में आए एकनाथ खड़से के खिलाफ कार्रवाई की पूरी संभावना बन गई थी क्योंकि राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात करने के बाद कहा था कि इस मामले में पार्टी ‘उपयुक्त कार्रवाई’ करेगी। बाद में पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा था कि खड़से के खिलाफ कार्रवाई होगी। उन्होंने संकेत दिया था कि कार्रवाई आने वाले समय में हो सकती है।

अमित शाह से मुलाकात के बाद फडणवीस ने संवाददाताओं से कहा था कि मैंने मामले पर तथ्यात्मक रिपोर्ट सौंपी है जो हाल में सामने आई है। हमने उन पर चर्चा भी की है। पुणे में सरकारी एमआईडीसी की जमीन को औने-पौने दाम में खरीदने के लिए खड़से पर उनके राजनीतिक विरोधियों और भाजपा की सहयोगी शिवसेना ने आरोप लगाए। इस जमीन की कीमत 40 करोड़ रुपये बताई गई।

खड़से पर यह भी आरोप है कि उनके पास दाऊद इब्राहिम के सहयोगी का फोन आया था। हालांकि, महाराष्ट्र के इस वरिष्ठ मंत्री ने अपने खिलाफ लगे आरोपों से इंकार किया।