मुंबई: कैब ड्राइवर ने सुनसान में ले जाकर महिला यात्री से किया बलात्कार

 मुंबई से सटे ठाणे में पुलिस ने एक महिला यात्री से बलात्कार करने के आरोपी 32 वर्षीय कैब ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है.

मुंबई: कैब ड्राइवर ने सुनसान में ले जाकर महिला यात्री से किया बलात्कार
मुंबई से सटे ठाणे में पुलिस ने एक महिला यात्री से बलात्कार करने के आरोपी 32 वर्षीय कैब ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुंबई: मुंबई से सटे ठाणे में पुलिस ने एक महिला यात्री से बलात्कार करने के आरोपी 32 वर्षीय कैब ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है. ठाणे के पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) महेश पाटिल ने बताया कि कथित घटना 19 दिसंबर की रात की है. उन्होंने बताया कि आरोपी ड्राइवर सुरेश पी गोसावी को गिरफ्तार कर लिया गया. अपराध के लिये उकसाने के आरोप में पुलिस ने उसके एक मित्र को भी गिरफ्तार किया है.

पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों 32 वर्षीय सुरेश गोसावी और 31 वर्षीय उमेश झाला को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें 26 दिसंबर तक के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया. पुलिस दोनों आरोपियों को हिरासत में लेकर आगे की जांच में जुट गई है.

यह भी पढ़ें- दिल्ली: कैब ड्राइवर ने 'अश्लील वीडियो क्लिप' दिखाकर मासूम से की छेड़छाड़

पीड़िता ने ठाणे के काशिमिरा पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है. दर्ज शिकायत में पीड़िता ने बताया कि 19 दिसंबर की रात में उसने कैब बुक कराया. कैब ड्राइवर  ने सुनसान में ले जाकर महिला के पैसे लूट लिए पैसों के साथ ड्राइवर ने मोबाइल और पर्स भी लूट लिया. लूट के बाद पीड़िता के साथ रेप किया. पीड़िता ने बताया कि कैब में ड्राइवर का एक साथी भी सवार था, जिसने लूट और रेप में कैब ड्राइवर की मदद की.

पुलिस ने बताया कि रेप के बाद आरोपी पीड़िता को लॉज में गए. लॉज मैनेजर ने जब कैब ड्राइवर से पूछताछ की तो दोनों भाग निकले. पीड़िता ने इसके बाद शिकायत दर्ज कराई और पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. घटना के बाद कैब कंपनी ने कहा कि इस घटना से उसका कोई संबंध नहीं है. कैब कंपनी ने पुलिस को बताया कि ड्राइवर कई दिनों से काम पर नहीं आ रहा था. कैब कंपनी ने कहा कि कंपनी किसी भी अपराध की निंदा करती है. 

इस कैब ड्राइवर के जज्बे को सलाम
हम रोजाना अखबारों और सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर ओला-उबर जैसी टैक्सी सर्विस और उनके ड्राइवरों के बारे में शिकायतें ही सुनते हैं, लेकिन इस खबर को पढ़कर आपको एक सुकून महसूस होगा. दरअसल, मेंगलुरु के कैब ड्राइवर ने कुछ ऐसा किया है, जिसे सुनकर हर कोई कह रहा है कि दुनिया इतनी भी बुरी नहीं है, जितना शायद हम सोचते हैं.

अब भी इस दुनिया में इंसानियत कायम है. काव्या राव नाम की एक लड़की ने अपने फेसबुक पर एक पोस्ट किया है, जिसे पढ़कर इस दुनिया पर एक बार फिर भरोसा करने को आपका मन भी कहने लगेगा. 

यह भी पढ़ें- सलाम : ये कैब ड्राइवर अस्पताल जाने वाली सवारियों से पैसे नहीं लेता

सुनील नाम के एक शख्स मेंगलुरू में टैक्सी चलाते हैं. काव्या राव नाम की एक महिला ने अपने माता-पिता के लिए एक कैब बुक करवाई. उनके पिता को मेडिकल-चेक अप के लिए अस्पताल जाना था. अस्पताल पहुंचने के बाद जब काव्या के माता-पिता ने 140 रुपए का पेमेंट करने के लिए पैसे आगे बढ़ाए तो सुनील ने मना कर दिया.

काव्या ने इस घटना के बारे में अपनी फेसबुक पोस्ट पर लिखा कि 'अस्पताल पहुंचकर सुनील नाम के इस ड्राइवर को जब मेरे माता-पिता ने 6 किलोमीटर के सफर के 140 रुपये दिए तो उसने मना कर दिया. सुनील ने कहा कि वह अस्पताल ले जाने वाली सवारियों से पैसे नहीं लेता. मेरे पेरेंट्स ने बहुत कोशिश की पेमेंट देने की लेकिन वह अड़ा रहा.

यह भी पढ़ें- उबर कैब में छेड़छाड़ मामला: आरोपी ड्राइवर गिरफ्तार

उसने जोर देते हुए कहा कि अस्पताल तक लोगों को इस तरह ड्रॉप करना दरअसल समाज की मदद करने का उसका अपना तरीका है. मेरी मां ने कहा कि कम से कम पेट्रोल के ही पैसे ले ले तो उसने उसके लिए भी इंकार कर दिया और चला गया.