एकनाथ खड़से मामला: ‘एथिकल हैकर’ नहीं पेश हुआ एटीएस के सामने

महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री पद से इस्तीफा देने को मजबूर हुए एकनाथ खड़से के मोबाइल पर अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम के कराची स्थित घर से कथित तौर पर फोन आने का कॉल रिकॉर्ड डाटा हासिल करने वाला हैकर आज आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) के सामने पेश नहीं हुआ। एटीएस इस आरोप की जांच कर रही है कि खड़से को दाउद के घर से फोन आते थे । जांच एजेंसी ने खुद को ‘एथिकल (नैतिकतावादी) हैकर’ बताने वाले गुजरात के मनीष भांगले को तलब किया था।

एकनाथ खड़से मामला: ‘एथिकल हैकर’ नहीं पेश हुआ एटीएस के सामने

मुंबई: महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री पद से इस्तीफा देने को मजबूर हुए एकनाथ खड़से के मोबाइल पर अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम के कराची स्थित घर से कथित तौर पर फोन आने का कॉल रिकॉर्ड डाटा हासिल करने वाला हैकर आज आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) के सामने पेश नहीं हुआ। एटीएस इस आरोप की जांच कर रही है कि खड़से को दाउद के घर से फोन आते थे । जांच एजेंसी ने खुद को ‘एथिकल (नैतिकतावादी) हैकर’ बताने वाले गुजरात के मनीष भांगले को तलब किया था।

भांगले के वकील संदेश सावंत ने कहा, ‘हमने एटीएस को बताया कि भांगले अपना बयान दर्ज कराने के लिए आज नहीं आएगा क्योंकि मामले से जुड़ी एक याचिका उच्च न्यायालय में लंबित है ।’ अतुलचंद्र कुलकर्णी की अगुवाई वाली मुंबई अपराध शाखा ने पहले भांगले का बयान दर्ज किया था और बाद में खड़से को क्लीन चिट दे दी थी । इसके बाद भांगले ने उच्च न्यायालय में अर्जी दाखिल कर मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की।

वकील ने कहा, ‘वही अधिकारी (कुलकर्णी) अब एटीएस की अगुवाई कर रहे हैं, इसलिए फिर से बयान दर्ज कराने का कोई मतलब नहीं है।’ उन्होंने कहा कि एटीएस अधिकारियों ने जलगांव में एक संवाददाता सम्मेलन के लिए मौजूद भांगले से कहा था कि वह उनके साथ मुंबई चले, लेकिन सावंत ने उन्हें ऐसा करने से मना किया । इसलिए एटीएस ने आज हैकर भांगले को बुलाया था ।संरक्षण की मांग करने वाली भांगले की याचिका पर उच्च न्यायालय सोमवार को सुनवाई कर सकता है।