भाजपा नेता एकनाथ खड़से मानहानि मामले में अंजलि दमानिया के खिलाफ वारंट

अदालत ने इससे पहले अंजलि दमानिया को तलब किया था, लेकिन वह पेश नहीं हुई थीं.

भाजपा नेता एकनाथ खड़से मानहानि मामले में अंजलि दमानिया के खिलाफ वारंट
वरिष्ठ भाजपा नेता एकनाथ खड़से. (फाइल फोटो)

जलगांव: उत्तरी महाराष्ट्र के इस शहर की एक अदालत ने बीते गुरुवार (8 फरवरी) को वरिष्ठ भाजपा नेता एकनाथ खड़से की कथित मानहानि पर उनके खिलाफ दर्ज मामले में सामाजिक कार्यकर्ता अंजलि दमानिया के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया. भाजपा कार्यकर्ता सुनील पाटिल ने पिछले साल जलगांव की एक मजिस्ट्रेट अदालत में अंजलि के खिलाफ एक मामला दर्ज कराया था. पाटिल के वकील चंद्रजीत पाटिल ने कहा, ‘अदालत ने इससे पहले अंजलि को तलब किया था, लेकिन वह पेश नहीं हुई थीं. इसलिए अदालत ने आज (गुरुवार, 8 फरवरी) उनके खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया और मुंबई की सांताक्रूज पुलिस को इसके निष्पादन का निर्देश दिया.’

खड़से का इस्तीफा: मोदी-शाह के नेतृत्व में BJP के लिए पहला झटका

बोलने से डरते हैं महाराष्ट्र के मंत्री : खड़से
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए भाजपा के असंतुष्ट नेता एकनाथ खड़से ने बीते 7 फरवरी को कहा कि राज्य में मंत्री बोलने से ‘डरते हैं.’ खड़से ने 2016 में एक जमीन सौदे में भ्रष्टाचार और हितों के टकराव के आरोप को लेकर राज्य के राजस्व मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. वह अपने राजनीतिक पुनर्वास के लिए संघर्षरत हैं और कई बार फडणवीस पर निशाना साधते रहे हैं.

इसके साथ ही खड़से ने कई अच्छी योजनाएं शुरू करने के लिए भाजपा और महाराष्ट्र सरकार की प्रशंसा भी की. उन्होंने मुंबई में संवाददाताओं से अनौपचारिक बातचीत में कहा, ‘‘मंत्री और पार्टी कार्यकर्ता निर्देश के लिए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की ओर देखते हैं और इस भय से बोलने से डरते हैं कि कहीं वे ऐसी स्थिति में नहीं फंस जाएं जिसके लिए वे पहले से तैयार न हों.’’