Breaking News

महाराष्ट्र सरकार के ई-सेवा केंद्र बेचेंगे पतंजलि के उत्पाद

पहली बार ऐसा होगा कि किसी निजी कंपनी के उत्पादों को राज्य सरकार के माध्यम से बेचा जाएगा. 

महाराष्ट्र सरकार के ई-सेवा केंद्र बेचेंगे पतंजलि के उत्पाद
पतंजलि ने हाल ही में अपने उत्पादों की मार्केटिंग के लिए अमेजॉन और फ्लिपकार्ट जैसी ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ गठजोड़ किया है. (फाइल फोटो)

मुंबई: आधार, पैन कार्ड और पासपोर्ट आदि दस्तावेजों से संबंधित सेवाएं देने के लिए बनाए गए महाराष्ट्र सरकार के ई-सेवा केंद्रों पर अब योगगुरू बाबा रामदेव के पतंजलि के उत्पाद भी मिलेंगे. पिछले सप्ताह एक सरकारी संकल्प (जीआर) के माध्यम से घोषित इस फैसले से विवाद खड़ा हो गया है और विपक्षी दलों ने सरकारी सेवा केंद्र या ई-सेवा केंद्र पर पतंजलि के उत्पादों की मार्केटिंग करने के फैसले के लिए भाजपा नीत सरकार की आलोचना की है.

जीआर में पतंजलि उत्पाद ई-सेवा केंद्रों पर मुहैया होने वाली सेवाओं में से एक के रूप में उल्लेख है. पतंजलि ने हाल ही में अपने उत्पादों की मार्केटिंग के लिए अमेजॉन और फ्लिपकार्ट जैसी ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ गठजोड़ किया है. पहली बार ऐसा होगा कि किसी निजी कंपनी के उत्पादों को राज्य सरकार के माध्यम से बेचा जाएगा. 

कांग्रेस ने उठाया सवाल
विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष धनंजय मुंडे ने कहा, ‘‘राज्य सरकार को केवल एक कंपनी से प्रेम क्यों है? उसे अनेक आयुर्वेद उत्पाद कंपनियों और महिला स्वयं-सहायता समूहों के बीच ई-सेवा केंद्रों के माध्यम से अपने उत्पादों को बेचने के लिए प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देना चाहिए.’’ 

मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष संजय निरूपम ने हाल ही में आरोप लगाया था कि राज्य सरकार ने नागपुर में मल्टी-मॉडल इंटरनेशनल हब एयरपोर्ट में बहुत कम कीमत पर बाबा रामदेव की कंपनी को जमीन आवंटित की है.