मुंबई लोकल ट्रेन सीरियल ब्लास्ट के दोषियों की सजा पर फैसला आज

11 जुलाई 2006 को मुंबई लोकल ट्रेनों में हुए सीरियल बम ब्लास्ट मामले में सेशंस कोर्ट आज (सोमवार) सजा पर फैसला सुना सकती है। मामले पर आज कोर्ट में सजा पर बहस होगी। अगर बहस पूरी हो जाती है तो फैसला आज ही सुना दिया जाएगा। घटना के 9 साल बाद हाल ही में कोर्ट ने 13 में से 12 आरोपियों को दोषी करार दिया था।

मुंबई लोकल ट्रेन सीरियल ब्लास्ट के दोषियों की सजा पर फैसला आज

मुंबई: 11 जुलाई 2006 को मुंबई लोकल ट्रेनों में हुए सीरियल बम ब्लास्ट मामले में सेशंस कोर्ट आज (सोमवार) सजा पर फैसला सुना सकती है। मामले पर आज कोर्ट में सजा पर बहस होगी। अगर बहस पूरी हो जाती है तो फैसला आज ही सुना दिया जाएगा। घटना के 9 साल बाद हाल ही में कोर्ट ने 13 में से 12 आरोपियों को दोषी करार दिया था।

गौरतलब है कि नौ साल पहले 11 जुलाई 2006 को मुंबई की लोकल ट्रेन में सिलसिलेवार धमाके हुए थे, जिसमें 187 लोगों की मौत हुई थी और 800 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। यह धमाके प्रेशर कुकर बम से कराए गए थे। पहला धमाका दोपहर 4.35 के आसपास हुआ था, थोड़ी ही देर में माटुंगा, बांद्रा, खार, जोगेश्वरी, बोरीवली तथा भायंदर के पास उपनगरीय ट्रेनों में धमाके हुए। इन धमाकों में 188 लोगों की मौत हुई थी और 824 घायल हुए थे।

पुलिस के मुताबिक मार्च 2006 में लश्कर-ए-तैयबा के आजम चीमा ने अपने बहावलपुर स्थित घर में सिमी और लश्कर के दो गुटों के मुखियाओं के साथ इन धमाकों की साजिश रची थी। पुलिस के मुताबिक मई 2006 में बहावलपुर के ट्रेनिंग कैंप में 50 युवकों को भेजा गया। उन्हें बम बनाने और बंदूकें चलाने का प्रशिक्षण दिया गया। साथ ही कड़ी पूछताछ के दौरान अपनाए जाने वाले हथकंडों से निपटने का प्रशिक्षण दिया गया।