महाराष्‍ट्र: कैबिनेट विस्‍तार के 24 घंटे भी नहीं हुए, सत्‍तापक्ष में दिखी फूट...

एनसीपी के चार बार के विधायक प्रकाश सोलंके मंत्रिमंडल में जगह न मिलने के कारण काफी नाराज हैं. 

महाराष्‍ट्र: कैबिनेट विस्‍तार के 24 घंटे भी नहीं हुए, सत्‍तापक्ष में दिखी फूट...

मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) के नेतृत्व में चल रही महाविकास आघाड़ी की सरकार में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. सोमवार को हुए पहले कैबिनेट विस्तार के बाद से तीनों दलों (शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस) में विवाद खुलकर सामने आने लगा है. दरअसल, ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि एनसीपी के चार बार के विधायक प्रकाश सोलंके मंत्रिमंडल में जगह न मिलने के कारण काफी नाराज हैं. सोलंके ने विधायक पद से इस्तीफा देकर राजनीति से सन्यास लेने का ऐलान कर दिया. उधर, कांग्रेस के विधायकों ने भी नाराजगी जताई है.

जानकारी के मुताबिक, महाराष्ट्र के पूर्व राजस्व राज्य मंत्री प्रकाश सोलंके आज (मंगलवार) अपना इस्तीफा सौंप सकते हैं. प्रदेश की बीड जिले के माजलगांव सीट से एनसीपी विधायक प्रकाश सोलंके उद्धव ठाकरे सरकार में मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज हैं. सूत्रों की मानें तो सोलंके आज विधानसभा अध्यक्ष से मिलकर अपने विधायक पद से इस्तीफा देने की तैयारी में हैं. उधर, एनसीपी उन्हें मनाने में जुटी है. आपको बता दें कि महाराष्ट्र कैबिनेट विस्तार के बाद शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी में नेताओं के बीच नाराजगी बढ़ गई है. कांग्रेस नेता भी सोनिया गांधी से मिलकर शिकायत दर्ज कराने दिल्ली पहुंचे.

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्र में परिवार वाली सरकार, अजित बने डिप्टी CM, आदित्य को मिला कैबिनेट मंत्री का पद

उधर, कांग्रेस के मंत्रियों ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से मंगलवार को दिल्ली में मुलाकात की. मंत्रियों के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, के.सी. वेणुगोपाल और पार्टी सचिव आशीष दुआ भी थे. बालासाहेब थोरात और अशोक चव्हाण सहित सोमवार को शपथ ग्रहण करने वाले वरिष्ठ मंत्रियों ने भी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की.

प्रदेश कांग्रेस के भीतर असंतोष की बात सामने आई है और कुछ वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि मंत्रिमंडल विस्तार में उनकी अनदेखी की गई है. दो बार के विधायक मुंबई के अमीन पटेल कैबिनेट में जगह मिलने की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन उनसे जूनियर विधायकों असलम शेख और वर्षा गायकवाड को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया, और उन्हें नजरअंदाज कर दिया गया.