प्रफुल्ल पटेल ने खोला राज, शरद पवार ने ठुकरा दी थी अटल बिहारी वाजपेयी की 'दोस्ती'

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के नेता प्रफुल्ल पटेल ने अटल बिहारी वाजपेयी और भारतीय राजनीति के कद्दावर नेता शरद पवार को लेकर एक खुलासा किया है. 

प्रफुल्ल पटेल ने खोला राज, शरद पवार ने ठुकरा दी थी अटल बिहारी वाजपेयी की 'दोस्ती'
अटल बिहारी वाजपेयी की फाइल तस्वीर.

मुंबई: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के नेता प्रफुल्ल पटेल ने अटल बिहारी वाजपेयी और भारतीय राजनीति के कद्दावर नेता शरद पवार को लेकर एक खुलासा किया है. पटेल ने 18 साल पुरानी बातों को याद करते हुए कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार को 1999 में एनडीए में शामिल होने का निमंत्रण दिया था, जब वह प्रधानमंत्री थे लेकिन मराठा नेता ने विनम्रतापूर्वक पेशकश को ठुकरा दिया. पटेल ने कहा कि पवार ने भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) में शामिल होने की पेशकश को ठुकरा दिया, क्योंकि उनका मानना था कि उनकी विचारधारा उनसे नहीं मिलती है.

NCP की दो दिवसीय चिंतन बैठक में पटेल ने कहा, '1999 में वाजपेयी ने पवार साहब को राजग में शामिल होने का न्यौता दिया था लेकिन उन्होंने विनम्रतापूर्वक पेशकश ठुकरा दी.' चिंतन बैठक रायगढ़ जिले के करजट में हो रही है. पटेल ने कहा कि फारूक अब्दुल्ला, ममता बनर्जी, एम. करूणानिधि, नीतीश कुमार, नवीन पटनायक और रामविलास पासवान जैसे कई नेता राजग में शामिल हो गए और उनमें से अधिकतर अब सत्तारूढ़ गठबंधन का हिस्सा नहीं हैं.

Praful Patel
एनसीपी प्रमुख शरद पवार और उनकी ही पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल. फाइल तस्वीर

ये भी पढ़ें: क्या राहुल गांधी और हार्दिक पटेल की 'दोस्ती' में आ गई दरार? ये तस्वीर बयां कर रही नई कहानी

पटेल ने कहा, 'कई वाजपेयी सरकार में शामिल होने के लिए तैयार थे लेकिन पवार साहब ने निमंत्रण ठुकरा दिया. पवार साहब ने राजग में शामिल नहीं होने का निर्णय किया क्योंकि उनका मानना था कि उनकी विचारधारा उनसे नहीं मिलती.' 

ये भी पढ़ें: बीजेपी से भिड़ने के लिए गैर AAP सहित विरोधी दलों को एकजुट करेगी NCP

उन्होंने कहा, 'अगर वह गठबंधन में शामिल हो गए होते तो कोई आपत्ति नहीं करता.' पूर्व नागर विमानन मंत्री ने कहा कि अगर 76 वर्षीय नेता ने पेशकश स्वीकार कर ली होती तो वाजपेयी सरकार में उन्हें तत्कालीन गृह मंत्री लालकृष्ण आडवाणी के साथ दूसरा स्थान हासिल हो जाता. पटेल ने पार्टी कार्यकर्ताओं से अगला चुनाव लड़ने के लिए तैयार रहने को कहा और कहा कि 2019 राकांपा का वर्ष होगा. उन्होंने कहा, 'यह हमारे पवार साहब का वर्ष होगा.'