close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री बोले- राज्य में नए मोटर व्हीकल एक्ट को लागू नहीं करेंगे

परिवहन मंत्री रावते ने दोहराया है कि नए यातायात नियमों में खामियां हैं और इससे जनता को दिक्कतें आ सकती हैं.

महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री बोले- राज्य में नए मोटर व्हीकल एक्ट को लागू नहीं करेंगे
नए ट्रैफिक नियमों को लेकर नितिन गडकरी ने कहा कि दवाब में राज्य सरकारें जुर्माना कम ना करें. (फाइल फोटो)

मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते (Diwakar Raote) ने दुहराया है कि सूबे में नये मोटर व्हीकल नियमों को लागू नहीं किया जाएगा. मुंबई में रावते ने शुक्रवार शाम एलान किया कि केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) का कोई जवाब अब तक नहीं हासिल हुआ है और यही वजह है कि प्रदेश में नये यातायात नियमों को लागू नहीं किया जा सकता है.

रावते ने दोहराया है कि नये यातायात नियमों में खामियां हैं और इससे जनता को दिक्कतें आ सकती हैं. लिहाज़ा वो इसे महाराष्ट्र में लागू नहीं कर रहे हैं और राज्य सरकार ने तय किया है कि वो देशभर में लागू हुए नए मोटर व्हीकल कानून को अपने राज्य में लागू नहीं करेंगे.

शिवसेना कोटे के परिवहन मंत्री
सूबे के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने कहा था कि नए यातायात नियम लागू करने की वजह से राज्य में आम लोगों को दिक्कतें पैदा हो सकती है. लिहाजा इसे लागू करना फिलहाल स्थगित कर दिया गया है. महाराष्ट्र की बीजेपी सरकार में शामिल शिवसेना कोटे के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने सूबे में नए मोटर व्हीकल एक्ट को लागू करने से मना कर दिया है.

आक्रोश की स्थिति
राज्य के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को चिट्ठी लिखकर कहा है कि नए मोटर व्हीकल एक्ट की वजह से राज्य में सार्वजनिक आक्रोश की स्थिति पैदा हो सकती है. लिहाजा वो राज्य में नए मोटर व्हीकल एक्ट को लागू करने में असमर्थ हैं. दिवाकर रावते ने नितिन गडकरी से नए मोटर व्हीकल एक्ट पर पुनर्विचार करने का भी आग्रह किया है. दूसरी तरफ बीजेपी शासित गुजरात ने भी नए मोटर एक्ट के तहत तय जुर्माने को आधा करने का एलान कर दिया है.

अक्टूबर में विधानसभा चुनाव
महाराष्ट्र में अक्टूबर में विधानसभा चुनाव होने हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि नए मोटर व्हीकल एक्ट की वजह से सरकार जनता के कोपभाजन का शिकार हो सकती है. और शिवसेना के मंत्री ने राज्य में केंद्रीय सरकार के नए ट्रैफिक नियम को लागू करने से मना कर दिया है.

नियम में बदलाव लाने की मांग
राज्य परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को खत लिखकर नियम में बदलाव लाने की मांग की है. जवाब नहीं आता तब तक राज्य में नए ट्रैफिक चालान नियम लागू नहीं किए जाएंगे. इससे पहले खुद नितिन गडकरी ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि बांद्रा-कुर्ला सी लिंक पर उनकी गाड़ी का ओवर स्पीडिंग को लेकर चालान कटा था.

जुर्माना कम करना ठीक नहीं
नए ट्रैफिक नियमों को लेकर नितिन गडकरी ने कहा कि दवाब में राज्य सरकारें जुर्माना कम ना करें. उन्होंने आगे कहा कि जुर्माना कम करना ठीक नहीं है. कानून के प्रति भय और सम्मान नहीं है. दुनिया में सबसे ज्यादा मौत भारत में होती है. उन्होंने ये भी कहा कि 2 फीसदी जीडीपी का नुकसान सड़क दुर्घटनाओं में होता है.

केरल और पश्चिम बंगाल भी गुजरात के ही नक्शे कदम पर
बीजेपी शासित गुजरात सरकार ने भी नए ट्रैफिक चालान नियम को राज्य में लागू तो कर दिया, लेकिन जुर्माने की राशि आधी कर दी है. गुजरात को देखते हुए केरल राज्य और ममता बनर्जी के पश्चिम बंगाल सरकार भी नए मोटर व्हीकल एक्ट को राज्य में लागू करने से गुरेज कर रही है. हालांकि अभी तक दोनों राज्यों ने औपचारिक एलान नहीं किया है लेकिन संभावना जताई जा रही है कि केरल और पश्चिम बंगाल भी गुजरात के ही नक्शे कदम पर चल सकते हैं.