close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मुंबई में बारिश के आते ही धुल गई पेड़ों पर लगी चेतावनी, बीएमसी बेखबर

सादे कागज पर यह चेतावनी पेड़ों पर चिपकाई गयी थी, जो की पहले ही बारीश में बह गयी है. अब मुंबई में कौन सा पेड़ खतरनाक है और कौन सा नहीं यह पता कर पाना मुश्किल है.

मुंबई में बारिश के आते ही धुल गई पेड़ों पर लगी चेतावनी, बीएमसी बेखबर
मुंबई में बारिश के दौरान कई जगहों पर बड़ी-बड़ी टहनियां गिरने का डर होता है.

सुस्मिता भदाने/महाराष्ट्र: मुंबई में पहले ही बारिश में पेड़ों पर लगी चेतावनी बह गई. मुंबई में बारिश के दौरान 10 हजार पेड़ ऐसे है जो भारी बरसात में दौरान गिरने का डर बना है. मुंबई महानगर पालिका ने ऐसे पेड़ों पर चेतावनी लगाई थी. बारिश के दौरान ऐसे पेड़ो के आसपास खड़े ना रहने की हिदायत भी बीएमसी ने दी है. सादे कागज पर यह चेतावनी पेड़ों पर चिपकाई गयी थी, जो की पहले ही बारीश में बह गयी है. अब मुंबई में कौन सा पेड़ खतरनाक है और कौन सा नहीं यह पता कर पाना मुश्किल है.

मुंबई में बारिश के दौरान कई जगहों पर बड़ी-बड़ी टहनियां गिरने का डर होता है. बारिश के दौरान तेज हवाओं के चलते कई बार पेड़ गिरने की घटनाएं भी होती है. ऐसे में किसी भी तरह की दुर्घटना से बचने के लिए यह चेतावनी वाले पोस्टर लगाए गए थे. 

पिछले महीने पेड़ों पर यह चेतावनी चिपकाने की मुहिम बीएमसी ने छेड़ी थी. माटुंगा, किंग्ज सर्कल, वडाला, आर ए कॉलनी और अन्य जगहोंपर पेडो की संख्या ज्यादा है. यहां पर यह चेतावनी चिपकाई गई थी. 10 हजार में से 5 हजार चेतावनी इंग्लिश भाषा में और बाकी मराठी में चिपकाई गई थी. लेकिन अब यहां पर अब चेतावनी नहीं है.  

मुंबई में लगभग 30 लाख पेड़ हैं, जिसमें से लगभग 16 लाख पेड़ निजी प्रॉपर्टी में है. पिछले कई सालो से अकेले मुंबई में पेड़ गिरकर मरनेवालों की संख्या पर नजर डाले तो सबसे ज्यादा 9 मौते 2015 में हुई थी. जिसके बाद पिछले साल 7 लोगों की मौत 2018 में हुई, 2017 में 4 और 2016 में 3 लोगों की पेड़ गिरने की घटना में मौत हो गई है.