close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महात्मा गांघी की 150वीं जयंती: ‘अतुल्य भारत’ नारे में शामिल होंगे शब्द ‘गांधी की भूमि’

पर्यटन सचिव रश्मि वर्मा ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाने के लिए बनाई गई योजनाओं के तहत यह परिवर्तन किया जाएगा.

महात्मा गांघी की 150वीं जयंती: ‘अतुल्य भारत’ नारे में शामिल होंगे शब्द ‘गांधी की भूमि’
सरकार ने दो अक्तूबर 2018 से 30 मार्च 2019 तक महात्मा गांधी की 150वीं जयंती को मनाने की अपनी योजना पहले ही घोषित कर दी है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: पर्यटन मंत्रालय अपने प्रमुख कार्यक्रम ‘अतुल्य भारत’ के आदर्श वाक्य में ‘गांधी की भूमि’ शब्दों को शामिल करेगा. पर्यटन सचिव रश्मि वर्मा ने शुक्रवार को कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाने के लिए बनाई गई योजनाओं के तहत यह परिवर्तन किया जाएगा.

सरकार ने दो अक्तूबर 2018 से 30 मार्च 2019 तक महात्मा गांधी की 150वीं जयंती को मनाने की अपनी योजना पहले ही घोषित कर दी है. सरकार ने अपने सभी मंत्रालयों से कहा है कि वह इस अवसर को मनाने के लिए अपनी योजनाएं तैयार रखे.

वर्मा ने कहा,‘हमने गांधीजी के जीवन से जुड़ी विभिन्न गतिविधियों के बारे में योजनाएं बनाई हैं, भारत और विदेशी कार्यालय, दोनों के लिए. हम ‘अतुल्य भारत’ के आदर्श वाक्य में जल्द ही ‘गांधी की भूमि’ शब्द जोड़ेंगे और इसे प्रमुखता से प्रदर्शित किया जाएगा.’ मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि इस माह के बाद से जारी होने वाले ‘अतुल्य भारत’ के विज्ञापनों में गांधी का उल्लेख होगा.

वर्मा ने यह भी बताया कि मंत्रालय के विदेशी कार्यालयों में गांधीजी से जुड़ा साहित्य वितरित किया जाएगा. महात्मा गांधी की शिक्षाओं को बढ़ावा देने के लिए प्रश्नोत्तरी प्रतिस्पर्धा आयोजित की जाएगी तथा उनके जीवन के बारे में जागरूकता पैदा की जाएगी.

मंत्रालय की वेबसाइट पर गांधीजी की 150वीं जयंती के अवसर पर उनके बारे में अलग से एक पेज होगा.  वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण में गांधीजी की 150वीं जयंती मनाने के होने वाले विभिन्न आयोजनों के मकसद से 150 करोड़ रूपये आवंटित किए हैं.

(इनपुट - भाषा)