2019 में सुप्रीम कोर्ट के 5 बड़े फैसले, जिन्हें हमेशा याद रखा जाएगा

साल 2019 सुप्रीम कोर्ट के कई ऐतिहासिक फैसलों के लिए याद रखा जाएगा.

2019 में सुप्रीम कोर्ट के 5 बड़े फैसले, जिन्हें हमेशा याद रखा जाएगा

नई दिल्ली: साल 2019 कई चीजों के लिए याद रखा जाएगा, जिनमें से एक सुप्रीम कोर्ट के कई ऐतिहासिक फैसले भी हैं. अयोध्या भूमि विवाद पर फैसला हो या CJI को RTI के दायरे में लाने का फैसला, सभी फैसलों ने देश को एक नई दिशा दी. आइए जानते हैं सुप्रीम कोर्ट के उन बड़े फैसलों के बारे में जो इस साल सुनाए गए.

अयोध्या फैसला
दशकों पुराने अयोध्या भूमि विवाद को इसी साल सुप्रीम कोर्ट ने खत्म कर दिया. अयोध्या में जमीन विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया. करीब 40 दिन चली बहस के बाद कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए विवादित भूमि का कब्जा सरकारी ट्रस्ट को दे दिया. कोर्ट के फैसले के मुताबिक, रामलला को 2.77 एकड़ ज़मीन का मालिकाना हक दिया गया है. दूसरी तरफ सुन्नी वक्फ बोर्ड को नई मस्जिद के निर्माण के लिए पांच एकड़ ज़मीन का एक 'उपयुक्त' प्लॉट दिया जाएगा.

आरटीआई के दायरे में CJI
वहीं, एक और ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अब मुख्य न्यायाधीश का कार्यालय भी सूचना के अधिकार के तहत आएगा.

राफेल का फैसला
इस साल सबसे ज्यादा विवाद जिन मुद्दों पर हुआ उनमें राफेल विमान की खरीदारी महत्वपूर्ण मुद्दा रही. राहुल गांधी ने सरकार को कई बार इस मुद्दे को लेकर कटघरे में खड़ा किया हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने राफेल विमान सौदे को लेकर दायर की गई याचिकाओं को खारिज कर दिया.

कर्नाटक संकट फैसला
सुप्रीम कोर्ट ने इस साल कर्नाटक में मचे सियासी घमासान पर भी एक बड़ा फैसला सुनाया...दरअसल, कर्नाटक में हुए सियासी उठापटक के बाद 17 विधायक अयोग्य ठहराए गए थे.हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले को सही ठहराया लेकिन कोर्ट ने यह भी अपने फैसले में कहा था कि अयोग्य विधायक उपचुनाव में हिस्सा ले सकते हैं...

सबरीमाला फैसला
वहीं, करेल के सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को अनुमति देने वाले अपने 2018 के ऐतिहासिक फैसले पर दायर पुनर्विचार याचिका पर फैसला देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने विभिन्न धर्मों द्वारा महिलाओं के साथ किए जाने वाले भेदभाव के मुद्दे को विस्तार देते हुए मामले को सुनवाई के लिए सात सदस्यीय पीठ के पास भेज दिया.