मालदा: हिंसा प्रभावित कालियाचक जाने की भाजपा सांसदों को नहीं मिली अनुमति

पश्चिम बंगाल के मालदा में कालियाचक इलाके में हुई हिंसा मामले की जांच के लिए मालदा पहुंची बीजेपी की 3 सदस्यीय 'जांच टीम' को हिरासत में लेकर वापस कोलकाता भेजने के बाद पार्टी राज्य की ममता सरकार पर एक बार फिर हमला किया है।

मालदा: हिंसा प्रभावित कालियाचक जाने की भाजपा सांसदों को नहीं मिली अनुमति

मालदा (पश्चिम बंगाल) : जिला अधिकारियों ने हिंसा से प्रभावित कालियाचक जाने से सोमवार को भाजपा सांसदों की एक ‘तथ्य अन्वेषण टीम’ को रोक दिया और उन्हें रेलवे स्टेशन से वापस भेज दिया। इसके बाद विधानसभा चुनाव की तैयारी में लगे पश्चिम बंगाल में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया।

सांसद भूपेन्द्र यादव, राम विलास वेदांती और राज्य से भाजपा के सांसद एसएस अहलूवालिया सुबह करीब छह बजे मालदा शहर के स्टेशन पर गौर एक्सप्रेस से पहुंचे। वहां पर पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों ने कालियाचक में निषेधाज्ञा लागू होने के कारण उन्हें वापस चले जाने को कहा।

यादव ने कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल सरकार की यह कार्रवाई निंदनीय है।’’ सांसदों को हावड़ा जाने वाली शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन से वापस जाने को बाध्य किया गया।

भाजपा ने कहा है कि उसके नेता केन्द्रीय गृह मंत्री से मुलाकात कर हिंसा की जांच करने के लिए एक टीम गठित करने की मांग करेंगे और इस मुद्दे पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से भी मुलाकात की जाएगी।

तृणमूल कांग्रेस ने भाजपा पर हमला करते हुये आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में चुनाव के लिए 100 दिन से भी कम समय रह गया है ऐसे में मतदाताओं के ध्रुवीकरण के लिए इसे सांप्रदायिक घटना बनाने का प्रयास किया जा रहा है और दावा किया कि भगवा पार्टी की हालत बिहार चुनाव से भी बुरी होगी।