close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ममता बनर्जी ने पीएम को लिखा पत्र, इलेक्‍शन फंडिंग पर ऑल पार्टी मीटिंग बुलाएं मोदी

ममता बनर्जी ने लिखा, प्रधानमंत्री जी आपको अच्छी तरह पता है कि किस तरह चुनावो में पानी की तरह पैसा बहाया जाता है. वोट के लिए कैश बांटा जाता है. इलेक्शन कमीशन ने प्रत्याशी के ऊपर तो पाबंदी लगाई है, लेकिन पार्टी के ऊपर नहीं.

ममता बनर्जी ने पीएम को लिखा पत्र, इलेक्‍शन फंडिंग पर ऑल पार्टी मीटिंग बुलाएं मोदी

कोलकाता: पश्‍च‍िम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनाव में फंडिंग और दूसरे चुनावी मुद्दों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है. ममता बैनर्जी ने पत्र में लिखा है कि 2019 का इलेक्शन विश्व में सबसे महंगा इलेक्शन था उनका दावा है कि इसमें 60,000 करोड़ रुपए खर्च हुए.

ममता बनर्जी ने लिखा, प्रधानमंत्री जी आपको अच्छी तरह पता है कि किस तरह चुनावो में पानी की तरह पैसा बहाया जाता है. वोट के लिए कैश बांटा जाता है. इलेक्शन कमीशन ने प्रत्याशी के ऊपर तो पाबंदी लगाई है, लेकिन पार्टी के ऊपर नहीं.

ममता बैनर्जी ने लिखा, प्रधानमंत्री जी आपसे अनुरोध है कि इलेक्शन फंडिग पर एक आल पार्टी मीटिंग बुलाइये, ताकि भ्रष्टाचार को ज़ड से खत्म किया जा सके. ममता बैनर्जी ने अपने पत्र में तमाम देशो के नाम लेकर भारत से तुलना करते हुए भारत में इलेक्शन फंडिग पर सवाल उठाए हैं.

ममता ने कहा कि यह देश में सबसे जरूरी चुनाव सुधारों में से एक है. ममता ने कहा कि वर्तमान में सरकारी वित्तपोषण के साथ चुनाव 65 अत्यधिक विकसित देशों में लागू है, इसमें जर्मनी, इटली, फ्रांस व जापान जैसे देश हैं. ममता ने कहा कि चुनावों को 'स्वतंत्र, निष्पक्ष व पारदर्शी' बनाने के लिए इसकी भारत में भी जरूरत है.

ममता ने अपने पत्र में लिखा, "यह मुद्दा व्यापक रूप से चुनाव सुधारों का है और खासतौर से हमारे लोकतांत्रिक सरकार में भ्रष्टाचार व अपराध रोकने के लिए है. चुनावों के सरकारी वित्तपोषण का समय आ गया है, जो आज दुनिया के 65 देशों में लागू है."

उन्होंने लिखा, "दुनिया भर में राजनीतिक दलों के डायरेक्ट पब्लिक फंडिंग व भारत के 2019 के चुनावों में सबसे ज्यादा राशि खर्च करने को देखते हुए..मैं आप से देश में चुनावों के सरकारी वित्तपोषण के एकमात्र एजेंडा के साथ एक सर्वदलीय बैठक बुलाने का आग्रह करती हूं."