मारी गई 14 इंसानों की जान लेने वाली आदमखोर बाघिन 'अवनी', लोगों ने खुशी में फोड़े पटाखे

नरभक्षी बाघिन अवनि (टी1) की मौत की खबर को सुनकर लोगों ने खूब जश्न मनाया. लोगों ने पटाखे फोड़े और मिठाईयां बांटी. 

मारी गई 14 इंसानों की जान लेने वाली आदमखोर बाघिन 'अवनी', लोगों ने खुशी में फोड़े पटाखे
शुक्रवार (02 नवंबर) को बाघिन का मार गिराया गया. (फोटो-ANI)

नई दिल्ली: यवतमाल जिले के पांढरकवड़ा के वन क्षेत्र में बाघिन अवनि (टी-1) को शुक्रवार (02 नवंबर) देर रात मार दिया गया. नरभक्षी बाघिन अवनि (टी1) कथित रूप से 14 लोगों के साथ करीब 500 जंगली जानवरों का शिकार कर चुकी थी. जानकारी के मुताबिक, उसे खत्म करने के लिए 200 लोगों की टीम लगाई गई थी. वहीं, बाघिन को बचाने के लिए प्रयत्न और सेव टाइगर एनजीओ ने 'लेट अवनी लिव' अभियान चलाया था. एनजीओ ने अवनि को न मारने के लिए सुप्रीम कोर्ट तक गुहार लगाई थी. नरभक्षी बाघिन अवनि (टी1) की मौत की खबर को सुनकर लोगों ने खूब जश्न मनाया. लोगों ने पटाखे फोड़े और मिठाईयां बांटी.

man eater tigress Avni (T1) was killed in Maharashtra Yavatmal

इस बाघिन ने अपना पहला शिकार एक वृद्ध महिला को बनाया था. खेत में पड़े जब लोगों ने उसके शव को देखा तो पीठ पर पंजे के गहरे निशान मिले थे. महाराष्ट्र में कई लोगों की मौत के बाद इसी साल सितंबर महीने में नरभक्षी बाघिन की तलाश शुरू हो गई थी. नरभक्षी बाघिन अवनि ने अपना दूसरा शिकार खेत में काम कर रहे एक बुजुर्ग को बनाया था. उसने बुजुर्ग पर हमला करके उसका बायां पैर खा लिया था. इसके बाद एक के बाद एक कई मामले सामने आते गए. नरभक्षी बाघिन अवनि (टी1) की दहशत इस कदर क्षेत्र में फैल गई कि घर से अकेले निकले में कतराने लगे. जरे सहमे लोग रात में लाठी और मशालें लेकर गश्त पर निकलने लगे.

man eater tigress Avni (T1) was killed in Maharashtra Yavatmal

डीएनए जांच, कैमरा ट्रैप्स और पंजों के निशानों के चलते जांचकर्ता इस निष्कर्ष पर पहुंचे थे कि पांच साल की यह मादा बाघ अब आदमखोर हो गई है और मानव मांस के लिए लोगों की शिकार कर रही है. खूंखार हो चुकी बाघिन को पकड़ने के लिए 100 कैमरे लगाए गए थे. इसको ढूंढ़ने के लिए शिकारी कुत्तों और पैराग्लाइडर्स को लगाया गया था.