close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मथुरा हिंसा की CBI जांच के आदेश देने से सुप्रीम कोर्ट ने किया इंकार

उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को मथुरा के जवाहर बाग में हुई हिंसा की सीबीआई जांच के आदेश देने से इंकार कर दिया। एक जनहित याचिका दायर कर मथुरा हिंसा की जांच सीबीआई से कराने की मांग की गई थी। सुप्रीम कोर्ट सोमवार को इस अर्जी पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया था। बता दें कि, मथुरा के जवाहर बाग में गुरुवार को हुई हिंसा में दो पुलिस कर्मियों सहित 29 लोगों की जान चली गई थी।

मथुरा हिंसा की CBI जांच के आदेश देने से सुप्रीम कोर्ट ने किया इंकार

नई दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को मथुरा के जवाहर बाग में हुई हिंसा की सीबीआई जांच के आदेश देने से इंकार कर दिया। एक जनहित याचिका दायर कर मथुरा हिंसा की जांच सीबीआई से कराने की मांग की गई थी। सुप्रीम कोर्ट सोमवार को इस अर्जी पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया था। बता दें कि, मथुरा के जवाहर बाग में गुरुवार को हुई हिंसा में दो पुलिस कर्मियों सहित 29 लोगों की जान चली गई थी।

न्यायमूर्ति पीसी घोष और न्यायमूर्ति अमिताव रॉय की अवकाश पीठ ने कहा कि उसका इरादा कोई आदेश पारित करने का नहीं है और उसने याचिकाकर्ता से कहा कि वह इसके लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय का रुख करें।

याचिका दायर करने वाले वकील एवं दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय की ओर से उपस्थित वरिष्ठ वकील गीता लूथरा ने कहा कि मथुरा में बड़े पैमाने पर हिंसा की खबर आई है और सबूतों के साथ छेड़छाड़ की जा रही है।

उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के नेतृत्व वाली उत्तर प्रदेश सरकार सीबीआई जांच की शुरुआत नहीं कर रही है और राज्य की जांच एजेंसियां ‘अपना काम सही ढंग से नहीं कर रही हैं।’ इस पीठ ने कहा, ‘आपकी याचिका से ऐसा कोई सबूत नहीं मिलता जिससे पता चले कि राज्य जांच एजेंसी की ओर से कोई कोताही है। बिना किसी सबूत के अदालत दखल नहीं दे सकती।’ पीठ ने याचिकाकर्ता से कहा कि वे याचिका वापस लें और इसे वापस लिया हुआ करार दिया।

देश की सबसे बड़ी अदालत ने याचिका पर तत्काल सुनवाई के लिए कल सहमति जताई थी।

बीते दो जून को मथुरा के जवाहरबाग में अतिक्रमणरोधी अभियान के दौरान भड़की हिंसा में पुलिस अधीक्षक मुकुल द्विवेदी और धानाध्यक्ष संतोष कुमार यादव सहित 29 लोग मारे गए थे। माना जाता है कि यह अतिक्रमण ‘आजाद भारत विधिक वैचारिक क्रांति सत्याग्रही’ नामक संगठन की ओर से कर लिया गया था।

उपाध्याय ने अपनी याचिका में कहा था कि न्यायालय इस मामले का स्वत: संज्ञान लेते हुए सीबीआई जांच का आदेश दे सकती है क्योंकि ‘सच्चाई, घटना के असली कारण तथा कार्यपालिका, विधायिका एवं कथित समूह के बीच सांठगांठ का पता लगाना जरूरी है।’ 

(एजेंसी इनपुट के साथ)