close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नवजोत सिंह सिद्धू को अकेले पाकिस्तान जाने की अनुमति नहीं: सूत्र

विदेश मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक सिद्धू अगर जत्तथे के साथ जाते हैं तो उनको जाने की अनुमति होगी लेकिन अगर वह जत्थे के साथ नहीं जाते हैं तो उनको जाने की अनुमति नहीं है.  

नवजोत सिंह सिद्धू को अकेले पाकिस्तान जाने की अनुमति नहीं: सूत्र
9 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन होना है...

नई दिल्ली: नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot singh Sidhu) को अकेले पाकिस्तान (Pakistan) जाने की अनुमति नहीं है. विदेश मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक सिद्धू अगर जत्तथे के साथ जाते हैं तो उनको जाने की अनुमति होगी लेकिन अगर सिद्दू जत्थे के साथ नहीं जाते हैं तो उनको जाने की अनुमति नहीं है. विदेश मंत्रालय ने चिंता जताई है कि जो भारतीय जत्था जा रहा है, उसमें पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh)  और कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh)  की सुरक्षा पर चिंता जताई है. 

गौरतलब है कि पाकिस्तान से निमंत्रण स्वीकार करने के बाद पंजाब के पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शनिवार को विदेश मंत्री एस. जयशंकर से करतारपुर गलियारे के उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए सरकारी मंजूरी मांगी थी. सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की 550वीं जयंती से तीन दिन पहले यह समारोह आयोजित होगा. इमरान खान सरकार द्वारा नौ नवंबर को करतारपुर गलियारे (कॉरिडोर) के उद्घाटन में भाग लेने के लिए सिद्धू को आमंत्रित किया गया है. क्रिकेटर से राजनेता बने सिद्धू ने निमंत्रण स्वीकार कर लिया है. 

सिद्धू ने अपने पत्र में लिखा था, "एक विनम्र सिख के रूप में हमारे महान गुरु बाबा नानक को इस ऐतिहासिक अवसर पर श्रद्धांजलि अर्पित करना और हमारी जड़ों से जुड़ना एक महान सम्मान होगा. इसलिए मुझे इस शुभ अवसर के लिए पाकिस्तान जाने की अनुमति दी जानी चाहिए."

उधर, करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन से पहले ही क्रेडिट लेने की होड़ मच गई है. अमृतसर में नवजोत सिंह सिद्धू और इमरान खान के होर्डिंग्स लगाकर असली हीरो बताया गया है. दोनों को पाकिस्तान में करतारपुर साहिब गुरुद्वारा को भारतीय क्षेत्र से जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए 'असली नायक' बताया गया है. हालांकि, नगर निगम ने कुछ घंटों के भीतर होर्डिंग्स हटवा दिए. 

LIVE टीवी:

माना जाता है कि भारत से लगी सीमा से करीब 4 किलोमीटर दूर पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में स्थित करतारपुर गुरुद्वारा का निर्माण उस स्थल पर हुआ, जहां 16 वीं शताब्दी में गुरु नानक की मृत्यु हुई थी. इसे 4.2 किलोमीटर लंबे करतारपुर साहिब गलियारे से जोड़ा जाने वाला है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 9 नवंबर को करतारपुर गलियारा का उद्घाटन करेंगे और 12 नवंबर को पड़ने वाले गुरु नानक देव की 550 वीं जयंती समारोह के अवसर पर करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने वाले सिख श्रद्धालुओं के पहले जत्थे को रवाना करेंगे.