close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मेघालय हाईकोर्ट ने विवादित 'हिन्दू राष्ट्र' निर्णय को निरस्त किया, कही ये बड़ी बात

मुख्य न्यायधीश मोहम्मद याकूब मीर की पीठ ने कहा कि प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से संविधान की प्रस्तावना को ठेस पहुंचाने वाले किसी भी व्यवस्था को बरकरार नहीं रखा जा सकता. 

मेघालय हाईकोर्ट ने विवादित 'हिन्दू राष्ट्र' निर्णय को निरस्त किया, कही ये बड़ी बात
फाइल फोटो

शिलांग: मेघालय हाईकोर्ट ने अपने पूर्व न्यायधीश एसआर सेन के उस विवादित निर्णय को दर किनार कर दिया है, जिसमें कहा गया था कि विभाजन के बाद भारत को 'हिन्दू राष्ट्र' घोषित कर दिया जाना चाहिये था. मुख्य न्यायधीश मोहम्मद याकूब मीर की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने पाया कि आदेश "कानूनी रूप से त्रुटिपूर्ण" और संवैधानिक सिद्धांतों के अनुरूप नहीं है. पिछले साल दिसंबर में न्यायमूर्ति सेन की एकल पीठ ने अपने फैसले में माना था कि यदि धर्म के आधार पर भारत का विभाजन हुआ है तो इसे हिन्दू राष्ट्र घोषित किया जाना चाहिये." 

मुख्य न्यायधीश मोहम्मद याकूब मीर की पीठ ने कहा कि प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से संविधान की प्रस्तावना को ठेस पहुंचाने वाले किसी भी व्यवस्था को बरकरार नहीं रखा जा सकता. इसने कहा कि एकल पीठ के निर्देशों ने "देश की धर्मनिरपेक्ष भावना और भारतीय संविधान के प्रावधानों" को ठेस पहुंचायी है.