close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिवाली 2018: पटाखों को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के विरोध में व्यापारियों का अनोखा प्रदर्शन

विरोध कर रहे व्यापारियों का कहना है कि हमलोग ग्रीन पटाखे का मतलब भी नहीं जानते हैं.

दिवाली 2018: पटाखों को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के विरोध में व्यापारियों का अनोखा प्रदर्शन
ग्रीन पटाखे कम प्रदूषण करता है.

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट द्वारा पटाखे की बिक्री पर रोक को लेकर सदर बाजार के व्यापारियों ने अनूठे तरीके से अपना विरोध प्रदर्शन जताया. व्यापारियों ने हरी सब्जियों में पटाखों को लपेट कर बेचना शुरू कर दिया है. दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने सामान्य पटाखे की जगह ग्रीन पटाखे बेचने और फोड़ने की अनुमति दी है. सदर बाजार एसोसिएशन के अध्यक्ष एचएस छाबड़ा ने कहाकि हमलोग ग्रीन पटाखे का मतलब भी नहीं जानते हैं.

व्यापारियों ने कहा कि हम नहीं जानते हैं कि ग्रीन पटाखे क्या होते हैं. जब हमने स्थानीय SHO से बात की तो उन्होंने कहा कि वे हमें ग्रीन पटाखे की लिस्ट देंगे. दूसरे दिन जब हम लिस्ट लेने पहुंचे तो उन्होंने कहा कि इसके लिए दो दिन और चाहिए. बाजार में ग्रीन पटाखे है ही नहीं, तो हम क्या बेचेंगे. व्यापारियों का कहना है कि कोर्ट का फैसला एक साल पहले आना चाहिए था, जिससे कि बाजार में ग्रीन पटाखे उपलब्ध होते.

 

 

बता दें, सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में केवल ग्रीन पटाकों की बिक्री की अनुमति दी है. ग्रीन पटाखा कम प्रदूषण फैलाता है. इसके अलावा इसे तय समय और तय किए गए एरिया में ही बेचने का आदेश दिया गया था. कोर्ट ने पटाखों पर पूरी तरह प्रतिबंध से इनकार कर दिया था. कोर्ट ने कहा कि दीवाली के दिन रात 8 से 10 बजे के बीच ही पटाखे फोड़े जा सकते हैं. क्रिसमस और न्यू ईयर के मौके पर फायरक्रैकर्स रात 11.55 से रात 12.30 तक ही छोड़े जा सकेंगे.