200 किमी पैदल चलकर आई 'मजबूर' महिला ने सड़क पर बच्चे को दिया जन्म, ये रखा नाम

अपनी गरीबी से मजबूर इस मजदूर परिवार ने बच्चे का नाम प्रकाश रखा है. 

200 किमी पैदल चलकर आई 'मजबूर' महिला ने सड़क पर बच्चे को दिया जन्म, ये रखा नाम
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

आगरा: जब मजदूरों के नाम पर कांग्रेस और उत्तर प्रदेश सरकार में सियासी कहासुनी जारी थी उसी समय जयपुर से 200 किलो मीटर पैदल चलकर भरतपुर पहुंची बांदा की महिला ने सड़क पर बच्चे को जन्म दिया. इसके बाद परिवार एक ट्रक में बैठकर आगरा पहुंचा. आगरा में लगभग 24 घंटे इंतजार के बाद गुरुवार को झांसी की बस मिली. बस में बैठकर परिवार अपने घर के लिए निकल गया. 

अपनी गरीबी से मजबूर इस मजदूर परिवार ने बच्चे का नाम प्रकाश रखा है. बच्चे के पिता अनिल ने बताया कि वह जयपुर में मजदूरी करता है. उसकी पत्नी राजकुमारी 9 महीने की प्रेगनेंट थी. लॉकडाउन के चलते काम बंद हो गया. जैसे-तैसे इतने दिन कट गए लेकिन जब खाने को कुछ भी नहीं रहा तो उन लोगों ने पैदल चलकर बांदा जाने की ठानी. उनके साथ और भी कुछ लोग थे. 

करीब 200 किमी पैदल चलकर वो लो भरतपुर पहुंचे थे. तभी राजकुमारी को प्रसव पीड़ा हुई. साथ की महिलाओं ने सड़क पर राजकुमारी की डिलीवरी कराई. 

अनिल का आरोप है कि राजकुमारी को प्रसव पीड़ा शुरू होने पर उन लोगों ने एंबुलेंस के लिए फोन किया लेकिन एम्बुलेंस सेवा का फोन नहीं उठा. मजबूरी में महिला की सड़क पर डिलीवरी करानी पड़ी. 

इसके बाद वो लोग एक ट्रक में बैठकर आगरा पहुंचे. मामला डीएम आगरा के संज्ञान में आने के बाद महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया. करीब 24 घंटे अस्पताल में रहने के बाद अगले दिन बस मिल पाई. अनिल अपने परिवार के साथ बस में बैठकर गांव चला गया. 

ये भी देखें-