उद्धव सरकार का न्यूनतम साझा कार्यक्रम, तीनों पार्टियों में धर्मनिपेक्षता पर सहमति; पढ़ें- मुख्य वादे

शपथ ग्रहण से पहले शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन के बीच न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर सहमित बन चुकी है.

उद्धव सरकार का न्यूनतम साझा कार्यक्रम, तीनों पार्टियों में धर्मनिपेक्षता पर सहमति; पढ़ें- मुख्य वादे
प्रेस वार्ता को संबोधित करते महाविकास आघाडी गठबंधन के नेतागण.

मुंबई: उद्धव सरकार में शामिल शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने न्यूनतम साझा कार्यक्रम साझा किया है. शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए 'महा विकास अघाड़ी' के मुख्य मुद्दे सामने रखे. सबसे प्रमुख मुद्दा धर्मनिरपेक्षता है जिस पर तीनों पार्टियों ने सहमति जताई है. यानी शिवसेना ने हिंदुत्व के मुद्दे से किनारा कर लिया है. हालांकि प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस का कोई नेता मौजूद नहीं है. न्यूनतम साझा कार्यक्रम के तहत महाराष्ट्र में किसानों की माफी, गरीबों को 10 रुपए में खाना समेत महिलाओं की सुरक्षा जैसे तमाम विषय शामिल हैं.

एकनाथ शिंदे ने कहा कि तीनों पार्टियां महाराष्ट्र की जनता के हित के लिए साथ आईं और कामन मिनिमम प्रोग्राम बनाया है. मौजूदा हालात में तीनों पार्टियां महाराष्ट्र का विकास करेंगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस, एनसीपी, शिवसेना की महाविकास आघाडी में अन्य छोटे दल भी शामिल हैं.

महाविकास आघाडी के नेता ने बताया कि कॉमन मिनिमम प्रोग्राम में किसान, व्यापारी, खेत-मजदूर, उद्योग-धंधे करने वाले सभी को न्याय देने का काम होगा. परेशान किसानों और सर्व सामान्य के संकटों के राहत के लिए काम करेगी. यह सबकी सरकार है.

शिंदे ने कहा कि सीएमपी का प्रमुख उद्देश्य महाराष्ट्र के विकास को आगे बढ़ाना है. ये जाति-धर्म आदि को लेकर कोई भेद नहीं करेगी. मौजूदा हालात में तीनों पार्टियां महाराष्ट्र का विकास करेंगी. सर्व समाज के सर्वांगीण विकास के लिए काम करने का एजेंडा है.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में नेताबों ने कहा कि कॉमन मिमिनम प्रोग्राम तीनों पार्टियों के अध्यक्ष सोनिया गांधी, शरद पवार और उद्धव ठाकरे ने यह मंजूर किया है. यह सरकार मजबूत और स्थिर सरकार होगी. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र को बहुमत की सरकार की चाहिए थी. जो बहुमत के लिए आंकड़े चाहिए, उससे ज्यादा नंबर हैं. महाविकास आघाडी सरकार उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में किसान और सर्व सामान्य के हित के लिए काम करेगी.

इस दौरान एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा, ''जिनको सेक्यूलर शब्द समझ में नहीं आता है. उन्हें समझाएंगे.''

मलिक ने कहा, ''अलग अलग विचारधारा के लोग साथ आते हैं  तो कॉमन बिंदु बनाए जाते हैं. शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने यह कामन मिनिमम प्रोग्राम बनाए हैं. ये सभी पार्टियों ने स्वीकारा है. बाकी पार्टियों के अपने मुद्दे हो सकते हैं, लेकिन सरकार कॉमन मिनिमम प्रोग्राम को लेकर चलेगी.

एकनाथ शिंदे ने कहा, ''हमारे पास 170 से ज्यादा नंबर है, ऐतिहासिक समारोह शिवतीर्थ( शिवाजी पार्क) में होगा, महाराष्ट्र सरकार सभी धर्म जाति के लोगों को साथ लेकर चलेगी. अर्थ व्यवस्था निचले स्तर पर जा रही है. किसानों को जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई की जाएगी. शिक्षा, उद्योग, रोजगार सभी को प्राथमिकता दी जाएगी, हमारा मुख्य उद्धेश्य महाराष्ट्र का विकास है जो लोगों के हित में होगा. 10 रुपए में खाने की थाली जरूरतमंदों को दी जाएगी.

एनसीपी नेता जयंत पाटिल- हम विश्वास मत हासिल करने के बाद किसानों की कर्जमाफी पर काम करेंगे, किसानों के फसल बीमा और रोजगार सृजन को अहम स्थान दिया जाएगा.

देखें- LIVE TV