डॉक्‍टरों ने खोजा नया तरीका, 100 गुना तक सस्ता हो सकता है Black Fungus का Treatment

ब्‍लैक फंगस बीमारी जानलेवा भी है और बेहद खर्चीली भी है. इसके एक दिन के ट्रीटमेंट में करीब 35 हजार रुपये का खर्च आता है. नए तरीके से यह खर्च 350 रुपये हो सकता है. 

डॉक्‍टरों ने खोजा नया तरीका, 100 गुना तक सस्ता हो सकता है Black Fungus का Treatment
(फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: कोरोना वायरस के साथ-साथ ब्‍लैक फंगस (Black Fungus) का भी जमकर कहर झेलने वाले देश के लिए राहत की खबर आई है. एक ओर जहां देश में संक्रमण के मामलों की संख्‍या में खासी कमी आई है, वहीं डॉक्‍टरों ने ब्‍लैक फंगस के इलाज का खर्च 100 गुना तक कम करने में सफलता हासिल कर ली है. कोरोना और ब्‍लैक फंगस की दोहरी मार के चलते कई मरीजों के आर्थिक हालात बहुत खराब हो गए हैं. ऐसे में इलाज के खर्च (Treatment Cost) में कमी होना मरीजों को बहुत राहत देगा. 

एक दिन के इलाज का खर्च 35 हजार रुपये 

ब्लैक फंगस के इलाज का अब तक का एक दिन का खर्च करीब 35 हजार रुपये होता है. दरअसल, इसके मरीज को एंटी फंगल इंजेक्शन देने होते हैं, जो बहुत महंगे होते हैं. टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अब सर्जन्‍स ने म्‍यूकोर मायकोसिस (Mucormycosis) के पेशेंट के इलाज का कुछ ऐसा तरीका निकाला है, जिससे इसका खर्च 100 गुना तक सस्ता हो सकता है. यानी कि अब एक दिन के इलाज का खर्च 35,000 रुपये से घटकर 350 रुपये तक आ सकता है. 

यह भी पढ़ें: अब Corona Patient को नहीं दी जाएंगी आइवरमेक्टिन, डॉक्सीसाइक्लिन समेत कई दवाएं, New Guidelines जारी

VIDEO

ऐसे होगा ट्रीटमेंट 

डॉक्टरों ने इलाज का जो नया तरीका निकाला है, उसमें केवल बहुत सावधानी से मरीज के ब्लड क्रिएटिनिन (Blood Creatinine) लेवल की निगरानी करनी होगी. यदि क्रिएटिनिन लेवल बढ़ता है तो मरीज को दवा को एक मॉनीटर्ड गैप के साथ देनी होगी. इस तक्‍नीक से इलाज करने पर खर्च काफी कम हो जाएगा. ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाले इंजेक्शन का नाम एम्फोटेरेसिन है. ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को देखते हुए इस इंजेक्शन की कमी बाजार में देखने को मिल रही है. ऐसे में इलाज के दूसरे तरीकों का उपयोग जरूरी है. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.