भारतीयों के राष्ट्रवादी दृष्टिकोण ने ISIS,अलकायदा को देश में नहीं जमाने दिए पैर: नकवी

केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि भारत के लोगों ने यह सुनिश्चित किया कि आतंकवादी संगठनों की विध्वंसक गतिविधियों को देश में स्वीकृति नहीं मिले.

भारतीयों के राष्ट्रवादी दृष्टिकोण ने ISIS,अलकायदा को देश में नहीं जमाने दिए पैर: नकवी
केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (फाइल फोटो)

गुवाहाटी: केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शुक्रवार को कहा कि भारतीय लोगों का मजबूत राष्ट्रवादी दृष्टिकोण और संस्कृति ने इस्लामिक स्टेट और अलकायदा जैसे आतंकवादी संगठनों को सफलतापूर्वक पराजित किया है और इन संगठनों को देश में पैर नहीं जमाने दिए. अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री नकवी ने कहा कि भारत के लोगों ने यह सुनिश्चित किया कि आतंकवादी संगठनों की विध्वंसक गतिविधियों को देश में स्वीकृति नहीं मिले.

उन्होंने कहा,‘हमारे देश में एक अलग संस्कृति है और यह संस्कृति उनकी गतिविधियों को सफल होने की अनुमति नहीं देती है. अमेरिका जैसे देशों में आईएसआईएस अपनी गहरी जड़े स्थापित करने में सक्षम है लेकिन भारत में ऐसा नहीं है जहां हमारी संस्कृति उनके साथ लड़ती है.’

हिजबुल मुजाहिदीन के एक सदस्य को उत्तर प्रदेश और उसके कई सहयोगियों को असम में गिरफ्तार किये जाने के बाद असम में आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन की संभावित मौजूदगी के बारे में पूछे जाने पर नकवी ने कहा,‘वे अलग-अलग मामले हैं और इसका कोई प्रभाव नहीं है.’

विभिन्न राज्यों के मंत्रियों और सरकारी अधिकारियों के साथ गुवाहाटी में एक समन्वय बैठक के बाद मंत्री ने कहा,‘जिहादी गतिविधियों के खिलाफ कार्रवाई कानून के अनुसार की जाएगी’ असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल, पूर्वोत्तर राज्यों और ओडिशा, पश्चिम बंगाल तथा झारखंड के मंत्रियों और सरकारी अधिकारियों ने बैठक में भाग लिया.

पूर्वोत्तर में अल्पसंख्यक समुदायों को लाभ देने में राज्य सरकारों की कथित विफलता पर जब केन्द्रीय मंत्री का ध्यान दिलाया गया तो नकवी ने कहा,‘सभी छह अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों को सभी लाभ मिलेंगे.’

उन्होंने कहा कि यह एक अलग मामला है कि एक विशेष राज्य में कौन अल्पसंख्यक है या बहुसंख्यक है. उन्होंने अल्पसंख्यक समुदाय सिख का उदाहरण दिया जो पंजाब में बहुसंख्यक है और ईसाई नगालैंड में बहुसंख्यक है. उन्होंने कहा,‘हमारा प्रयास सभी को शामिल करना है.’

नकवी ने कहा,‘हमारी प्रतिबद्धता बिना किसी तुष्टिकरण के सशक्तिकरण और बिना किसी भेदभाव के विकास करना है.’ उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यकों विशेषकर महिलाओं के बीच साक्षरता की कम दर चिंता का विषय है. नकवी ने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार ने ‘वोट बैंक की राजनीति’ को खत्म किया है और ‘राष्ट्रवादी राजनीति’ को आगे बढ़ाया है.

(इनपुट - भाषा)