close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पंखे से लटककर आत्महत्या करने वालों को रोकने के लिए कारगर सिद्ध होगा ये अविष्कार...

पंखे से लटककर आत्महत्या करने वालों को रोकने के लिए कारगर सिद्ध होगा ये अविष्कार...
पंखे से लटककर आत्महत्या करने वालों को रोकने के लिए कारगर सिद्ध होगा ये अविष्कार...(फाइल फोटो)

नई दिल्लीः आज के इस भाग-दौड़ भरे दौर में डिप्रेशन और अवसाद हर किसी की जिंदगी का मानों हिस्सा बन चुके है. ऐसे में किसी को अगर अपनों का सहारा मिल जाता है तो इस मुश्किल दौर से पार पा जाता है. लेकिन जिसके पास कोई अपना नहीं होता वो इस अवसाद में ही अपनी जीवन लीला समाप्त कर लेता है. मुंबई के एक इंजीनियर ने ऐसा अविष्कार किया है जो भारत आत्महत्या के प्रयास को नाकाम करने में काफी कारगर साबित हो सकता है. 

WHO की रिपोर्ट के अनुसार भारत में हर चौथा किशोर है डिप्रेशन का शिकार

मुबंई में मुलुंड के रहने वाले 61 साल के इलेक्ट्रिकल इंजीनियर शरद अशानी ने ऐंटी-सुसाइड सीलिंग फैन रॉड बनाई है जिस पर जब कोई खुद को इस पंखे से लटकाने की कोशिश करेगा तो एक निश्चित वेट के बाद पंखे की रॉड नीचे आ जाएगी और पंखे से अलग हो जाएगी. अशानी पहले पंखे बनाने वाली कंपनी क्रॉम्प्टन ग्रेव में असिस्टेंट जीएम थे. एक रिपोर्ट के मुताबिक 2012 में भारत में 15-29 साल उम्रवर्ग के प्रति एक लाख व्यक्ति पर आत्महत्या दर 35.5 था. आपको यहां बता दें कि नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के हिसाब से भारत में हर साल करीब 1.30 लाख लोग सुसाइड करते हैं. इनमें से लगभग 60 हजार लोग पंखे से लटकर आत्महत्या कर लेते हैं.  

जानिए क्या है डिप्रेशन और कैसे होता है इसका इलाज

ऐसे काम करेगी ऐंटी सुसाइड फैन रॉड...

अशानी द्वारा बनाई गई इस रॉड में एक लचीली मशीन लगी है, जैसे ही एक निश्चित वजन से ज्यादा भार इस पर पड़ता है तो रॉड अपने आप पंखे से अलग हो जाती है. जब कोई इस पर लटकने की कोशिश करता है तो 'रॉड में लगी स्प्रिंग खिंचती है और व्यक्ति सीधे जमीन पर उतर जाता है और रॉड पंखे से अलग हो जाती है. स्प्रिंग की वजह से व्यक्ति को जमीन पर आने में किसी प्रकार कोई झटका नहीं लगता है वह सुरक्षित नीचे आ जाता है. 

61 साल के अशानी ने अब तक 100 रॉड्स बनाई हैं. उनकी यूनिट हर महीने 10 हजार रॉड बनाने के लिए तैयार है और वे हॉस्टलों में रॉड डोनेट करने के लिए तैयार हैं. वे अब पंखे बनाने वाली कंपनियों से अपना आइडिया शेयर कर रहे हैं. हर साल लगभग 2.5 लाख पंखे बनते हैं उनके अनुसार ये टेक्निक यदि अन्य कंपनियां अपनाती हैं तो कई लोगों की जान बच सकती है.

जिंदगी बचाने वाले की इस रॉड की कीमत जानकर आप हो जाएंगे हैरान

इस रॉड की कीमत 250 रुपए है और आप इसे पुराने या नए पंखे पर फिट कर सकते हैं. इलेक्ट्रिकल इंजीनियर अशानी ने अपने इस आविष्कार को पेटेंट भी करा लिया है. वे सीलिंग फैन में सुरक्षा के चाहते हैं और इसके लिए वे सामान्य रॉड की जगह यह 'ऐंटी सुसाइड रॉड' लगाना चाहते हैं. अशानी के अनुसार अगर इस रॉड के बारे में सभी लोग जानते, तो शायद कितनी ही जानें बच जातीं.