close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नागालैंड में रुझानों में BJP-एनडीपीपी गठबंधन सबसे आगे

इस बार के चुनावों में केंद्र की सत्ता समेत देश के ज्यादातर हिस्सों पर कब्जा जमाने वाली बीजेपी ने नवगठित नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) से हाथ मिलाया और अखाड़े में उतरी. बीजेपी ने 20 और एनडीपीपी ने 40 सीटों पर चुनाव लड़ा.

नागालैंड में रुझानों में BJP-एनडीपीपी गठबंधन सबसे आगे
इस बार के चुनावों में कांग्रेस ने 18 और बीजेपी ने 20 सीटों पर चुनाव लड़ा था. (फोटो साभार: ANI)

कोहिमा : नागालैंड में विधानसभा चुनाव के लिए शनिवार को जारी मतगणना में सत्तारूढ़ नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) 12 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है और इसकी गठबंधन पार्टी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) छह सीटों पर आगे है। वहीं, नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) 15 सीटों पर आगे है. इस बार के चुनावों में केंद्र की सत्ता समेत देश के ज्यादातर हिस्सों पर कब्जा जमाने वाली बीजेपी ने नवगठित नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) से हाथ मिलाया और अखाड़े में उतरी. गठबंधन के मुताबिक इन चुनावों में बीजेपी ने 20 और एनडीपीपी ने 40 सीटों पर चुनाव लड़ा.

नागालैंड में बीजेपी और एनडीपीपी (नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी) गठबंधन को 29 सीटें मिली हैं. जबकि एनपीएफ (नागा पीपुल्स फ्रंट) 25 सीटें मिली हैं. यहां कांग्रेस और एनसीपी को एक भी सीट नहीं मिली है.

देखिए LIVE

गठबंधन का हो पाएगा नागालैंड?
मतदान के बाद आए एक्जिट पोल पर नजर डालें तो नागालैंड में एक बार फिर से बीजेपी विरोधियों को परास्त करती हुई नजर आ रही है. एक्जिट पोल की मानें तो BJP-NDPP गठबंधन को 27 से 32 सीटों मिलने की उम्मीद लगाई जा रही है, लेकिन इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि वर्तमान की सत्तारूढ़ पार्टी नागा पीपुल्स फ्रंट(एनपीएफ) भी मजबूत है. 

कांग्रेस को मिलेंगी 2 सीटें
एक्जिट पोल में कांग्रेस एक बार फिर से मुंह की खाती हुई नजर आ रही है. एक्जिट पोल में कांग्रेस को महज 2 सीटें ही मिलती हुईं नजर आ रही हैं. प्रदेश में कांग्रेस के इतिहास पर नजर डालें तो वर्ष 1963 में नागालैंड के अस्तित्व में आने के बाद से पार्टी ने 3 मुख्यमंत्री दिए है, लेकिन इस बार कांग्रेस पिछले चुनावों के मुकाबले मजबूती के साथ खड़ी हुई नजर नहीं आ रही है. इस बार चुनावों में कांग्रेस ने महज 18 सीटों पर चुनाव लड़ा जबकि बीजेपी ने 20 सीटों पर चुनाव लड़ा. उम्मीदवारों के उतारने के बाद ही इस बात की खबरें तेजी पर थी कि बीजेपी प्रदेश में अपने पैर जमाने की कोशिश में है तो कांग्रेस अब पीछे हटना चाहती है.

क्या कहता है पिछला आंकड़ा
नागालैंड में वर्तमान में नगा पीपुल्स फ्रंट की सरकार है. प्रदेश के पिछले विधानसभा चुनावों के नतीजों पर गौर करें तो एनपीएफ को 38, कांग्रेस को 8, बीजेपी को 1, एनसीपी ने 4 सीटें हासिल की थी. पिछले चुनावों में 8 विधानसभा सीटें निर्दलीय के खाते में गई थी.

बीजेपी को है आत्मविश्वास
एक्जिट पोल और नतीजों के आने से पहले ही बीजेपी के तमाम नेता नागालैंड में पार्टी की सरकार बनाने को लेकर आश्वस्त नजर आ रहे हैं. केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू पहले ही इस बात का दावा कर चुके हैं कि बीजेपी ने एनडीपीपी के साथ मिलकर चुनाव सिर्फ इसलिए लड़ा है क्योंकि वह जनता को एनपीएफ पार्टी की सरकार के मुक्ती दिलाना चाहते हैं. चुनाव प्रचार के दौरान रिजिजू ने विपक्ष और एनपीएफ पर हमला बोलते हुए कई बार कहा था कि प्रदेश में 15 साल राज करने वाली एनपीएफ के नेताओं से जनता परेशान हो चुकी है.